कुछ देश आतंकवाद के समर्थक, मनी लॉन्ड्रिंग पर लगाम जरूरी’, पीएम मोदी का बिना नाम लिए पाकिस्तान पर हमला

PM Modi On Terror Funding: दिल्ली में आज दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मंत्रिस्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमे आतंकवाद की फंडिंग से निपटने के तरीकों पर चर्चा हुई. प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी (PM Modi) ने आज (18 नवंबर) सम्मेलन का उद्घाटन किया. इस दौरान उन्होंने कहा, दशकों से अलग-अलग नामों और रूपों में आतंकवाद ने भारत को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की है. हमने हजारों बेशकीमती जानें गंवाईं लेकिन हमने आतंकवाद का बहादुरी से मुकाबला किया है.

पीएम मोदी ने कहा, खास बात यह है कि यह सम्मेलन भारत में हो रहा है. हमारे देश ने दुनिया के गंभीर रूप से ध्यान देने  में बहुत पहले आतंक की भयावहता का सामना किया था. आतंकवाद मानवता, स्वतंत्रता और सभ्यता पर हमला है. यह कोई सीमा नहीं जानता. केवल एक समान, एकीकृत और शून्य-सहिष्णुता का दृष्टिकोण ही आतंकवाद को हरा सकता है.

टेरर फंडिंग को लेकर पाक पर निशाना

आतंकवादी संगठनों को कई स्रोतों से पैसा मिलता है. एक स्रोत राज्य का समर्थन करता है. पीएम ने बिना नाम लिए पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कुछ देश अपनी विदेश नीतियों के तहत आतंकवाद का समर्थन करते हैं. वे उन्हें राजनीतिक, वैचारिक और वित्तीय सहायता प्रदान करते हैं. टेरर फंडिंग के स्रोतों में से एक संगठित अपराध है. इसे अलग करके नहीं देखा जाना चाहिए. इन गिरोहों के अक्सर आतंकी संगठनों से गहरे संबंध होते हैं.

आतंकवाद का समर्थन करने वालों पर बरसे पीएम मोदी

अब आतंकवाद की गतिशीलता बदल रही है. तेजी से आगे बढ़ती तकनीक एक चुनौती और समाधान दोनों है. आतंक के वित्तपोषण और भर्ती के लिए नए प्रकार की तकनीक आ रही हैं. कई देशों के अपने कानूनी सिद्धांत और प्रक्रियाएं हैं. संप्रभु राष्ट्रों को अपनी व्यवस्था पर अधिकार है. हालांकि, हमें इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि चरमपंथियों को सिस्टम के बीच मतभेदों का दुरुपयोग करने की अनुमति न दें. जो भी आतंकवाद का समर्थन करता है उसके लिए किसी भी देश में कोई जगह नहीं होनी चाहिए.