‘क्या आपके पास रावण जैसे 100 सिर हैं. हम आपको हर चुनाव में देखते हैं’, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कसा तंज,

Gujarat Elections 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर गुजरात में सभी पार्टियां जमकर प्रचार कर रही हैं. और अब हर राज्य में एक दिसंबर को पहले चरण के लिए मतदान होना है.

Gujarat Assembly Elections 2022: गुजरात में सियासी पारा चरम पर है. वही कांग्रेस और बीजेपी के बीच बयानबाजी खत्म होती नजर नहीं आ रही है. जहाँ कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कस रहे हैं. वहीं, दूसरी तरफ बीजेपी भी इसका मुंहतोड़ जवाब दे रही है. और वही मल्लिकार्जुन खरगे ने एक चुनावी रैली में मोदी की तुलना रावण से कर दी हैं तो बीजेपी ने इसे पार्टी की बौखलाहट बताया हैं.

और अब अहमदाबाद के बेहरामपुरा में एक जनसभा में मल्लिकार्जुन खरगे ने हर चुनाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बहुत अधिक भरोसा करने के लिए भाजपा पर निशाना साधा. और फिर उन्होंने ये कहा की “हम आपका चेहरा निगम चुनाव, एमएलए चुनाव या सांसद चुनाव, हर जगह देखते हैं… क्या आपके पास रावण की तरह 100 सिर हैं?  और अब उनके इस बयान से बीजेपी का पारा भी बेहद चढ़ गया है.

क्या पीएम मोदी के नाम पर हर चुनाव में मांगा जा रहा वोट

फिर मल्लिकार्जुन खरगे ने आगे कहा, की “मैं देख रहा हूं कि पीएम मोदी के नाम पर वोट मांगा जाता है, चाहे वह नगर पालिका चुनाव हो, या फिर निगम चुनाव और या फिर विधानसभा चुनाव हो… अब क्या उम्मीदवार के नाम पर वोट मांगें…और अब क्या मोदी नगर पालिका में आकर काम करेंगे? फिर क्या वह आपकी जरूरत के समय आपकी मदद करने वाले हैं?

चुनावी गर्मी झेल नहीं पाल रही है कांग्रेस 

वहीं, बीजेपी प्रवक्ता अमित मालवीय ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस पार्टी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अपमान करने का आरोप लगाया हैं. और फिर उन्होंने ये कहा की कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे गुजरात चुनाव की गर्मी नहीं झेल पा रहे हैं. और इसी वजह से उन्होंने अपने शब्दों पर नियंत्रण खो दिया था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘रावण’ कहा. और अब कांग्रेस लगातार गुजरात और उसके बेटे का अपमान कर रही है.

कांग्रेस की मानसिकता को दर्शाता है खरगे का बयान

अब संबित पात्रा ने भी इस बयान को लेकर पलटवार किया है. जहाँ उन्होंने कहा कि ‘मुझे लगता है कि इस तरह की भाषा का इस्तेमाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए करना बिलकुल उचित नहीं है. और ये एक निंदनीय है जो कांग्रेस की मानसिकता को दर्शाता है. अब यह सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अपमान नहीं है, यह हर एक गुजराती और गुजरात वालो का अपमान है.