दिल्ली-NCR की हवा बेहद खराब, जानिए क्या है वजह, एक्सपर्ट्स ने कहा-सुबह शाम की सैर से बचें

दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण और बढ़ गया है। एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 329 यानी  (बहुत खराब) श्रेणी में है। दिल्ली के आनंद विहार और अक्षरधाम में सुबह से धुंध छाई रही। वायु प्रदूषण का लेवल कम नहीं हो रहा है। दिल्ली सहित NCR में शुक्रवार को भी धुंध की चादर देखी गई। आनंद विहार में आज सुबह AQI 440  दर्ज किया गया। नोएडा सेक्टर 62 में 367 और वहीं गुरुग्राम सेक्टर 51 में 356 AQI दर्ज किया गया। इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रदूषण कितने खराब स्तर तक पहुंच गया है।

जानिए कहां कितना AQI दर्ज किया गया

दिल्ली-एनसीआर में शुक्रवार की सुबह फिजा में सफेद धुंध की चादर देखी गई। दिल्ली के आनंद विहार में AQI 440, मुंडका में 357 और आरकेपुरम में 345 दर्ज किया गया। एनसीआर की बात करें तो नोएडा सेक्टर 62 में 367 और गुरुग्राम में आज सुबह AQI 356 दर्ज किया गया है।

दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण बढ़ने के कारण मरीजों की संख्या भी बढ़ने लगी है। बढ़ते प्रदूषण को लेकर डॉक्टर्स का कहना हैं कि प्रदूषण के कारण सांस लेने में दिक्कत, खांसी, आंख और स्ट्रोक की बीमारी होने के चांसेस ज्यादा हो गए हैं। जिन लोगों को कोरोना हो चुका है उन पर प्रदूषण ज्यादा प्रभाव डाल सकता है। बच्चे और बुजुर्गों के लिए भी प्रदूषण का यह स्तर खतरनाक हो सकता है। खासतौर पर अस्थमा के मरीजों को ज्यादा परेशानी हो सकती है।

पराली जलाने की घटनाएं पंजाब में 9 फीसदी बढ़ी

वायु प्रदूषण की गुणवत्ता खराब होने का अहम कारण पंजाब में पराली जलाना है। हवा चलने और पराली कम जलने की वजह से दिवाली के अगले दिन प्रदूषण का स्तर उतना ऊंचा नहीं पहुंचा। लेकिन गुरुवार की सुबह प्रदूषण दिवाली के अगले दिन से भी ज्यादा दर्ज किया गया। वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीएक्यूएम) ने गुरुवार को कहा कि इस साल 15 सितंबर से 26 अक्टूबर तक पंजाब में 2021 की इसी अवधि की तुलना में पराली जलाने की घटनाओं में 9 प्रतिशत तक बढ़ोतरी हुई है, जो कि  चिंतनीय है।

बंद कर दें सुबह-शाम की सैर

दिल्ली और उससे सटे नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम में हवा बेहद प्रदूषित हो चुकी है। यहां सुबह और शाम के समय धुंध की चादर छाई रहती है। इसी बीच दिल्ली एनसीआर के पार्कों में सुबह और शाम के समय बड़ी संख्या में लोग सैर के लिए निकलते हैं। एक्सपर्ट्स कह रहे हैं कि बदलते मौसम में प्रदूषण और ठंडक से बचने के लिए सुबह-शाम की सैर बंद कर देनी चाहिए, खासकर 65 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को। सुबह 9 बजे से पहले और शाम को 5 बजे के बाद घर से निकलने से बचना चाहिए। क्योंकि इस समय में हवा और ज्यादा प्रदूषित होती है।