नेशनल पॉल्यूशन कंट्रोल डे आज, जानिए क्यों मनाया जाता है इसे और क्या है इसका इतिहास

प्रदूषण से दिल्ली-एनसीआर ही नहीं बल्कि भारत और पूरी दुनिया परेशान है. प्रदूषण के तीन रूप होते हैं,  एयर पॉल्यूशन, साउंड पॉल्यूशन और वॉटर पॉल्यूशन, यह तीनों ही हमारे शरीर को बहुत नुकसान और कई बीमारियां दे रहे हैं. बता दे की, कुछ समय पहले हुई एक स्टडी में खुलासा हुआ था..,कि पॉल्यूशन की वजह से भारत में रहने वाले लोगों की औसत उम्र 5 साल तक घट गई है. ऐसे ही तमाम खतरों को देखते हुए,

हर साल 2 दिसंबर को नेशनल पॉल्यूशन कंट्रोल डे के रूप में मनाया जाता है. इसे मनाने का मकसद पॉल्यूशन से निजात पाने के उपायों पर चर्चा करना और लोगों को अवेयर करना होता है.., ताकि इसके खतरे को कम किया जा सके. चलिए आपको विस्तार से बताते हैं कि क्या है नेशनल पॉल्यूशन कंट्रोल डे का इतिहास और महत्व.

हम आपको बता दे कि, हर साल 2 दिसंबर को मनाए जाने वाले नेशनल पॉल्यूशन कंट्रोल डे का इतिहास भारत के भोपाल में हुई गैस त्रासदी से जुड़ा है. दरअसल, 2 दिसंबर 1984 को भोपाल में एक इंसेक्टिसाइड प्लांट से लगभग 45 टन मिथाइल आइसो साइनेट लीक हो गई और आसपास फैल गई. गैस के आसपास के वातावरण में फैलने से हजारों लोगों की मौत हो गई थी. इसके अलावा ही, हजारों लोगों को इसके कारण कई तरह की शारीरिक और मानसिक दिक्कते भी उठानी पड़ीं हैं. यह दिन इसी हादसे की याद में मनाया जाता है.

क्या है इसकी थीम

जैसा कि आपको पता हैं, हर स्पेशल डे की एक थीम होती है, उसी तरह इस दिन की भी एक थीम है. और वो है पॉल्यूशन को लेकर लोगों को जागरूक करना, उन्हें इसके खतरे बताने के साथ ही प्रदूषण रोकने के उपाय भी बताना हैं. प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए सरकारी योजनाओं को एडजस्ट करने के लिए प्रेरित करना, ताकि वो भी इस बड़ी समस्या को खत्म करने और वातावरण को बेहतर बनाने में अपना योगदान दे सकें.