पाकिस्तान की कंगाली में अमेरिका बढ़ा रह है मदद का हाथ : चीन ने किये हाथ खड़े

काफी समय से चल रही पाकिस्तान की तंगी से सभी देश अच्छी तरह वाकिफ है। ऐसे में पाकिस्तान के दोस्त चीन ने भी अपनी बदहाली के चलते पाकिस्तान की मदद के लिए हाथ खड़े कर दिए है। कोरोना महामारी के कारण चीन में आर्थिक बदहाली छाई हुई है। दूसरी तरफ अमेरिका ने इस मौके का पूरा फ़ायदा उठा कर पाकिस्तान से नजदीकी बढ़ाना शुरू कर दिया है। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन शीर्ष अधिकारी ने कहा कि उनका देश पाकिस्तान के बिजली संकट को खत्म करने में मदद देने के लिए तैयार है। पाकिस्तान में सोमवार को राष्ट्रीय ग्रिड में खराबी होने के कारण बड़े पैमाने पर बत्ती गुल रही पाकिस्तान में हर तरफ अँधेरा छाया रहा। भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान को अपना खास बनाने के लिए अमेरिका के पास इससे बेहतर मौका शायद ही कोई मिले। इस बात को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन भी समझते हैं। इसीलिए पाकिस्तान की आर्थिक बदहाली दूर करने में मदद का ऐलान करने के बाद अब अमेरिका ने बिजली संकट से उबारने के लिए भी पीएम शहबाज शरीफ की तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने सोमवार को अपने नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘बेशक, हमने देखा है कि पाकिस्तान में क्या हुआ है। बिजली गुल रहने से प्रभावित हुए सभी लोगों के प्रति हमारी संवेदनाएं हैं। जाहिर तौर पर अमेरिका ने कई चुनौतियों में हमारे पाकिस्तानी साझेदारों की मदद की है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम इस मामले में भी सहयोग करने के लिए तैयार हैं, लेकिन मुझे अभी तक पाकिस्तान से कोई खास अनुरोध मिलने की जानकारी नहीं है। बीते साल पाकिस्तान में आई बाढ़ और लगातार कम होते विदेशी मुद्रा भंडार के बीच पाकिस्तान की आवाम ने भुखमरी जैसी परिस्थियाँ देखी है। देश की बिजली का यूँ घंटों गायब रहना उस देश की दयनीय स्थिति को दर्शाता है। ऐसे में अमेरिका, पाकिस्तान को मदद के बहाने अपना मुरीद बनाना चाहता है। ताकि वह वक्त पड़ने पर उसका इस्तमाल कर सके। अपने हित के लिए जरूरत पड़ने पर पाकिस्तान से उसके दोस्त चीन की जासूसी करा सके। क्योंकी पाकिस्तान चीन का दोस्त भी है और पड़ोसी भी। साथ ही जरूरत पड़ने पर पाकिस्तानी आतंक के जरिये भारत पर मनोवैज्ञानिक दबाव बना सके।