भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने अपना 136वां स्थापना दिवस पूरे देश भर में धूमधाम से मना

रांची,  राष्ट्रीय कांग्रेस ने अपना 136वां स्थापना दिवस पूरे देश भर में धूमधाम से मनाया। झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डाॅ रामेश्वर उरांव के नेतृत्व में झारखंड प्रांत में भी स्थापना दिवस पूरे धूमधाम से भव्य तरीके से मनाया गया तथा कोरोना काल में सामाजिक दूरी का पालन करते हुए प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय, कांग्रेस भवन, रांची सहित सभी जिला मुख्यालयों में झंडोत्तोलन किया गया एवं तिरंगा यात्रा निकाली गई। इस अवसर पर मुख्य आयोजन कांग्रेस भवन, रांची में संपन्न हुआ, जिसे विद्युत सज्जा एवं पार्टी झंडा बैनर से सुसज्जित किया।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डाॅ रामेश्वर उरांव ने झंडोत्तोलन किया। प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष डा रामेश्वर उराँव, मंत्री बादल पत्रलेख,बन्ना गुप्ता,विधायक बंधु तिर्की,विधायक रामचन्द्र सिंह,विधायक राजेश कच्छप, कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर, केशव महतो कमलेश, प्रदेश कांग्रेस कमिटि के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे,लाल किशोर नाथ शाहदेव, डा राजेश गुप्ता छोटू सहित कांग्रेस नेताओं ने स्थापना दिवस की बधाई दी,तिरंगा यात्रा में शिरकत किया एवं सेल्फी वीथ तिरंगा का वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड कर देशभर के किसानों की लड़ाई में साथ देने का वचन दिया।

इस कार्यक्रम में कांग्रेस सेवादल के मुख्य संगठक सुश्री नेली नाथन ने प्रदेश अध्यक्ष को झंडोतोलन में सहयोग किया। इसके बाद कांग्रेस भवन से तिरंगा यात्रा आरंभ होकर शहीद चैक होते हुए अलबर्ट एक्का चैक पहंुचा, जहां परमवीर चक्र विजेता शहीद अलबर्ट एक्का की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया, तत्पश्चात तिरंगा यात्रा पुनः शहीद चैक पहुंचकर शहीद स्थल जाकर झारखंड के शहीदों को माल्यार्पण कर नमन किया गया। इसके बाद कचहरी चैक होते हुए तिरंगा यात्रा स्थानीय राजभवन के समक्ष समापन स्थल पर पहुंची और वहां मुख्य कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जहां कांग्रेस पार्टी की ओर से प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में स्वतंत्रता सेनानियों एवं बुजुर्ग कांग्रेसियों को शाॅल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया तथा टाना भगतों को कंबल देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मंच का संचालन कार्यकारी अध्यक्ष श्री केशव महतो कमलेश ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन महानगर कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष संजय पांडेय ने किया।

तिरंगा यात्रा को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डाॅ रामेश्वर उरांव ने कहा कि देश तभी एक रहेगा जब तक धर्मनिरपेक्षता एवं समाजवाद कायम रहेगा। हमलोग ऐसे राष्ट्रीय पार्टी के सदस्य है, जिसका अपना एक गौरवशाली इतिहास है। उन्होंने कहा कि आज ही के दिन 28 दिसम्बर 1885 को इंडियन नेशनल यूनियन के रूप में पार्टी की बुनियाद रखी गई थी। आज ही के दिन 72 प्रतिनिधियों के साथ बम्बई में पहला महाधिवेशन आयोजित हुआ था। इंडियन नेशनल यूनियन के संस्थापक रहे एओह्यूम की सोच थी कि पढ़े लिखे लोगों को संगठित कर एक ऐसा संगठन गाढ़ा जाए जो अंग्रेजों के खिलाफ उपजने वाले असंतोष को कम करने के लिए कारगर साबित हो, लेकिन उनकी यह सोच आगे चलकर देश के अंतिम व्यक्ति तक विकास कैसे सुलभ हो और आजादी मिले। ऐसी संस्था के रूप में काम करने लगी। कांग्रेस पार्टी ने 1887 में हीं सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर अंग्रेजों से यह मांग किया कि सार्वजनिक बैंकों की स्थापना कर किसानों को ऋण मुहैया कराया जाए। इसके बाद स्वदेशी आंदोलन, असहयोग आंदोलन, दांडी यात्रा, अंग्रेजों भारत छोड़ो, जैसे कई अंदोलनों का साक्षी रहा है, जिसके नेतृत्व कर्ता के रूप में स्वंय राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, सुभाष चन्द्र बोस, पंडित जवाहर लाल नेहरू, सरदार बल्लभ भाई पटेल जैसे सर्वामान्य नेता रहे हैं।

डाॅ उरांव ने कहा कि आज देश के किसान लगातार महीने भर से उपर से तीन काले कानूनों के विरोध में आंदोलनरत हैं। उनकी बातें नहीं सूनी जा रही है। पिछले दरवाजे से कृषि क्षेत्र में भी पंूजीवाद का प्रवेश कराया जा रहा है। जबकि कांग्रेस पार्टी लगातार स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी द्वारा मजबूत हरित क्रांति को कमजोर करने की कोशिश तथा देश के 62 करोड़ अन्नदाताओं के पक्ष में सड़क से लेकर सदन तक आवाज बुलंद कर रही है। हम अपने किसान भाईयों को भरोसा दिलाते है कि श्रीमती सोनिया गांधी-श्री राहुल गांधी के नेतृत्व में आपकी आवाज को बुलंद करने का काम करते रहेंगे। अंत में उन्होंने कांग्रेसजनों का आहवाहन करते हुए कहा कि हमें कांग्रेस की विचार-धारा को मजबूती के साथ घर-घर तक पहुंचाना होगा। क्योंकि कांग्रेस ही एक ऐसी पार्टी है जो विभाजनकारी शक्तियों को परास्त कर सकती है।

स्वागत भाषण प्रदेश कांग्रेस कमिटी के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने किया तथा कहा कि आज देश को कांग्रेस की नीति-सिद्धांतों की सबसे ज्यादा आवश्यकता है। हमने त्याग और बलिदान के उदाहरण दिये हैं। उपस्थित सभी कांग्रेसजनों से हमारा आग्रह है कि हम अपने कार्यक्रमों के माध्यम से पार्टी के नीति-सिद्धातों तथा सरकार के द्वारा किये गए कार्यो को जन-जन तक पहुंचाना है।

सांसद  गीता कोड़ा ने कहा कि देश पुनः एक अनचाहे संकट के गिरफ्त में घिरता जा रहा है इसलिए आज के तिरंगा यात्रा में शामिल सभी कंाग्रेसजनों को आज के दिन यह संकल्प लेना होगा कि देश की एकता और अखंडता के लिए हमें संघर्ष का रास्ता भी अपनाना पड़े तो पीछे नहीं हटना होगा। उन्होंने स्थापना दिवस की शुभकामनाएं भी प्रेषित की।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांग्रेस के वरिष्ठ नेता श्री सुबोधकांत सहाय ने कहा कि अतीत में पार्टी के मिल का पत्थर रहे सभी वरिष्ठ कांग्रेसजनों को सम्माानित करने का निर्णय स्वागतयोग्य है, क्योंकि यही वो पूंजी है जो देश और समाजहित में कार्य करते हुए अर्जित की है, इनका सम्मान जरूरी था। उन्होंने कहा कि सरकार अच्छा काम कर रही है लेकिन हमें अपनी गति को और तेज करना पड़ेगा। वर्ष 2021 की शुभकामना देते हुए कहा कि संगठन सरकार और संघर्ष का मेल आवश्यक है। अतः संभी कांग्रेसजनों को इस चुनौति को स्वीकार करना होगा।

वयोवृद्ध कांग्रेसनेता अमानत अली कांग्रेस के साथ अपने जुड़ने के स्मृति को साझा करते हुए कहा कि मैं खुद को गौरवान्वित महसूस करता हॅू कि मुझे कांग्रेसी होने के नाते देश के देश के सर्वमान्य नेता पंडित जवाहर लाल नेहरू व सुभाष चन्द्र बोस जैसे नेताओं का बुंडू में स्वागत करने का मौका मिला। कांग्रेस पार्टी ही देश को विभाजनकारी शक्तियों से बचा सकती है। उन्होंने नौजवान कांग्रेसजनों से आहवाहन करते हुए कहा कि हमें इसके लिए तैयार रहना पड़ेगा।

तिरंगा यात्रा को इन्होंने ने भी संबोधित किया- विधायक बंधु तिर्की, राजेश कच्छप, रामचन्द्र सिंह, व भूषण बाड़ा।

सोशल मीडिया के स्टेट को-आर्डिनेटर गजेन्द्र सिंह ने सेल्फी विथ तिरंगा कार्यक्रम के माध्यम से पार्टी के सभी मंत्रियों, सांसदों, विधायको, प्रदेश पदाधिकारियों, वरिष्ठ कांग्रेसनेताओं एंव आमजनों का वीडिया को सोशल मीडिया पर शेयर किया तथा भारतीय अर्थव्यवस्था की रीड, देश के अन्नदाता किसाना भाईयों के पक्ष में आवाज बंुलद करने का काम किया।

कांग्रेस स्थापना दिवस पर तिरंगा यात्रा के मंच से वयोवृद्ध कांग्रेस नेतागण को शाॅल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया, जिसमें श्री अमानत अली,, श्री बंदी उरांव, श्री बैरागी उरांव, श्री राणा संग्राम सिंह, श्री रौशन लाल भाटिया, डाॅ0 गुलफाम मुजीबी ,श्री पांडेय दयानंद शर्मा, श्री हरि राम, श्री ईश्वर चन्द जायसवाल, श्री देवदत साहु, श्री अनादि ब्रह्म, श्री सुधीर चैधरी,  श्री श्याम नारायण मिश्रा, श्री कामता उपाध्याय, श्री बसंत कुमार लाल, श्रीमती वीणा वर्मा,  श्री ऐनामुल हक, श्री नईमुद्दीन खान मो. हलीम, कलाल टोली, श्री देवराज खत्री आदि शामिल थे।

स्थापना दिवस कार्यक्रम में पूर्व मंत्री गीताश्री उरांव, डाॅ गुलफाम मुजीबी, अनादि ब्रह्म, प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, राजीव रंजन प्रसाद, शमशेर आलम, लाल किशोर नाथ शाहदेव, डाॅ राजेश गुप्ता, आभा सिन्हा, अजय नाथ शाहदेव, मोर्चा संगठन प्रभारी रविन्द्र सिंह, ज्योति सिंह मथारू, विनय सिन्हा दीपू, शकील अख्तर अंसारी, आदित्य विक्रम जायसवाल, केदार पासवान, राजीव शुक्ला, अमिताभ रंजन, सुरेश बैठा, डाॅ विनोद सिंह, शशिभूषण राय, उज्ज्वल प्रकाश तिवारी, भानू प्रताप बड़ाईक, रिंकू तिवारी, वेद प्रकाश तिवारी, डाॅ पी नैयर, सरफराज अहमद, अरूण श्रीवास्तव, जितेन्द्र त्रिवेदी, सुनील सिंह, राजेश सिन्हा सन्नी, उदय प्रताप सिंह मुन्ना, कमल ठाकुर, अजय सिंह, दिनेश लाल सिन्हा, राजू राम, फिरोज रिज्वी मुन्ना, प्रभात कुमार, जय सिंह लुखड़, संजय पासवान, उमर खान, किशन अग्रवाल, राजकिशोर सिंह, राजीव प्रकाश चैधरी, सुधीर सिंह, अख्तर अली, मदन मोहन महतो, अशोक मिश्रा, पूर्णिमा सिंह, लक्ष्मी नारायण तिवारी, चन्द्रशेखर शुक्ला, पूर्णिमा पांडेय, राजन सिंह राजा, बलजीत सिंह बेदी, सहित बड़ी संख्या में प्रखंड से लेकर प्रदेश स्तर तक के पदाधिकारी, नेता, कार्यकर्ता उपस्थित   थे