‘वो कहते रहे निकम्मा, नाकारा और गद्दार, लेकिन…’, जानिए अशोक गहलोत की टिप्पणी पर क्या बोले सचिन पायलट

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तरफ से सचिन पायलट को न सिर्फ गद्दार कहा गया हैं बल्कि उन्होंने ये भी कहा कि 2020 में पार्टी से बगावत की थी, इसलिए अब वे सीएम नहीं बनाए जा सकते.

Rajasthan Congress Crisis: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ‘गद्दार’ वाले बयान पर कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने पलटवार किया है. और फिर उन्होंने अशोक गहलोत को मर्यादित भाषा का इस्तेमाल करने की सलाह देते हुए कहा कि इतने अनुभवी व्यक्ति को ऐसी भाषा का इस्तेमाल करना शोभा नहीं देता हैं. और फिर इसके साथ ही पायलट ने गुरूवार को कहा हैं कि बीजेपी को हराने और राहुल गांधी का हाथ मजबूत करवाने के लिए एकजुट होकर लड़ना प्राथमिकता होनी चाहिए.

और फिर पायलट ने ये भी कहा हैं कि गहलोत उन्हें ‘निकम्मा, नाकारा, गद्दार आदि’’ कहते रहे हैं, पर लेकिन अब उनका लालन-पालन उन्हें इस प्रकार की भाषा के प्रयोग की अनुमति नहीं देता है. और राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा कि अभद्र शब्दों का प्रयोग, कीचड़ उछालने और आरोप-प्रत्यारोप का जो दौर चल रहा है, उससे कोई उद्देश्य पूरा नहीं होने वाला है.

क्या अशोक गहलोत के बयान हैं झूठे‘ 

कांग्रेस के नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के राजस्थान में प्रवेश करने के कुछ दिन पहले, अशोक  गहलोत ने पायलट को ‘गद्दार’ करार देते हुए कहा हैं कि उन्होंने 2020 में पार्टी के खिलाफ बगावत की थी और अब राज्य सरकार गिराने की कोशिश की हैं इसलिए उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया जा सकता हैं. और फिर अशोक गहलोत की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए पायलट ने कहा हैं की , ”मैंने अशोक गहलोत जी के आज के बयानों को देखा है, वो जो मेरे खिलाफ है. पर इतने अनुभव वाले किसी वरिष्ठ व्यक्ति को, जिन्हें पार्टी ने इतना कुछ दिया है, और अब उनका ऐसी भाषा का इस्तेमाल करना, और फिर पूरी तरह से झूठे और निराधार आरोप लगाना शोभा नहीं देता.’’