संयुक्त किसान मोर्चा 19 नवंबर को मनाएगा ‘फतह दिवस’, 26 नवंबर को भी मार्च निकालने का किया एलान

संयुक्त किसान मोर्चा ने 19 नवंबर को ‘फतह दिवस’ के रूप में मनाने का एलान किया है. किसान नेता दर्शन पाल ने गुरुवार यानि आज को कहा कि 19 नवंबर को फतह दिवस के रूप में मनाया जाएगा क्योंकि पिछले साल इसी दिन केन्द्र सरकार ने विवादित कृषि कानूनों को वापस लेने का आदेश दिया था. वही, संयुक्त किसान मोर्चा के नेता दर्शन पाल ने कहा हैं, कि किसान आंदोलन के अगले चरण पर फैसला करने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक आठ दिसंबर को करनाल में होगी.

हालाँकि संयुक्त किसान मोर्चा किसानों की लंबित मांगों पर केन्द्र के आश्वासन पूरे नहीं होने का आरोप लगाते हुए 26 नवंबर को पूरे देश में राज भवनों तक मार्च निकालने का भी एलान कर दिया है, हम आपको बता दे कि, तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन किया था. किसानों ने नवंबर 2020 में आंदोलन शुरू किया था. इस आंदोलन के दौरान बड़ी संख्या में किसानों की मौत भी हुई थी. वही, किसान आंदोलन के करीब एक साल बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2021 में गुरु पर्व के पवित्र अवसर पर तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की घोषणा की थी.

पीएम मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए, ये दावा किया था कि कानूनों से किसानों को लाभ होता हैं. उन्होंने कहा था कि प्रशासन किसानों को समझाने में असमर्थ रहा. पीएम मोदी की इस घोषणा के बाद किसानों ने अपना आंदोलन खत्म कर दिया था. ओर तीनों कानूनों को वापस ले लिया गया था।। ओर किसान अपने अपने घर लौट गए थे.