11 June 2021: Today’s Top Most 10 Environmental News।Weather news in India।Latest News Update

  1. प्रधानमंत्री ने पर्यावरणविद् प्रो. राधामोहन के निधन पर शोक व्यक्त किया

पद्म पुरस्कार से सम्मानित प्रख्यात अर्थशास्त्री व पर्यावरणविद् राधामोहन ने शुक्रवार को भुवनेश्वर के एक निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली. वह 78 वर्ष के थे. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रो. राधामोहन के निधन पर शोक व्यक्त किया है और कहा कि वे जैविक प्रथाओं को अपनाने के लिए जूनूनी थे. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, प्रोफेसर राधामोहन जी कृषि के प्रति विशेष रूप से स्थायी और जैविक प्रथाओं को अपनाने के प्रति गहरे जुनूनी थे. उनके निधन से दुखी हूं. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी प्रो राधामोहन के निधन पर शोक व्यक्त किया है.

  1. बंगाल में आज हाई टाइड का अलर्ट

मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल के तटवर्ती क्षेत्रों में हाई टाइड का अलर्ट जारी किया है. इसके अलावा आंधी तूफान के साथ भारी बारिश होगी. वज्रपात की भी आशंका है. इसके बाद पहले से ही सतर्क राज्य प्रशासन ने तटवर्ती क्षेत्रों से लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचा दिया है. तटीय और नदी क्षेत्रों से लगभग 5 लाख लोगों को निकालने सहित सभी एहतियाती कदम उठाने के अलावा, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सभी मंत्रियों को अपने-अपने क्षेत्रों पर कड़ी नजर रखने का निर्देश दिया. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश पर बांध मरम्मत का काम तेजी से चल रहा है. पिछले पांच दिनों से लगातार बारिश की वजह से इन इलाकों में पहले से ही जलस्तर बढ़ा हुआ है, और अब ये और खतरनाक रूप ले सकता है.

  1. दिल्ली सरकार के पहले ग्रीनहाउस का गोपाल राय ने किया उद्घाटन

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने शुक्रवार को दिल्ली सरकार के पहले ग्रीनहाउस का उद्घाटन किया. छोटे पौधों को हरा रखने के लिए तैयार यह ग्रीनहाउस आईटीओ नर्सरी में स्थित है. यहां आधुनिक तकनीक के जरिए पौधों को पोषण प्रदान किया जाएगा. इस दौरान गोपाल राय ने कहा कि ग्रीनहाउस को कम से कम समय में अधिक से अधिक चिकित्सकीय पौधे उगाने के लिए तैयार किया गया है. दिल्ली सरकार पांच जून से वन विभाग के 14 नर्सरी से चिकित्सकीय पौधा मुफ़्त में वितरित कर रही है. राय ने बताया कि नर्सरी ने पिछले साल करीब सात लाख चिकित्सकीय पौधे लोगों में वितरित किए.

  1. बरसात में बाढ़ एवं विभिन्न बीमारियों की आशंका को देखते हुए वैक्सीनेशन का कार्य प्रभावित हो सकता है.वैक्सीनेशन गति अभी से बढ़ाकर रखी जाए- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि इस साल बरसात का मौसम समय से कुछ पहले ही शुरू हो गया है. इससे इस मौसम में होने वाली इंसेफेलाइटिस, डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया आदि संक्रामक बीमारियों की आशंका भी बढ़ गई है. इसके मद्देनजर सीएम योगी ने सभी संबंधित अधिकारियों को बारिश के मौसम में संक्रामक बीमारियों के प्रसार को रोकने हेतु आवश्यक तैयारियां करने के दिशा-निर्देश दिए. साथ ही उन्होंने कहा कि बरसात में बाढ़ एवं विभिन्न बीमारियों की आशंका को देखते हुए वैक्सीनेशन का कार्य प्रभावित हो सकता है.  ऐसे में वैक्सीनेशन गति अभी से बढ़ाकर रखी जाए.

  1. मई में मौसम का रिकॉर्ड, 121 साल में मई दूसरा सबसे ज्यादा बारिश वाला महीना, लू चली ही नहीं

मौसम विभाग के मुताबिक इस साल मई माह सर्वाधिक बारिश के मामले में पिछले 121 साल में दूसरे नंबर पर रहा. इसकी वजह लगातार आए दो चक्रवात और पश्चिमी विक्षोभ है. विभाग ने यह भी कहा कि भारत में इस बार मई में औसत अधिकतम तापमान 34.18 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो 1901 के बाद चौथा सबसे कम तापमान था. यह 1977 के बाद सबसे कम है जब अधिकतम तापमान 33.84 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया था. इस बार भारत के किसी भी हिस्से में मई में लू नहीं चली. पूरे देश में मई 2021 में 107.9 मिमी बारिश हुई है जो औसत 62 मिमी वर्षा से ज्यादा है.

  1. रिसर्च में दावा: कोरोना की चपेट में आ चुके लोगों को टीके लगाने की आवश्यकता नहीं

एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि जो लोग कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं, उन्हे टीकाकरण की कोई आवश्यकता नहीं है. पब्लिक हेल्‍थ एक्‍सपर्ट्स के एक ग्रुप का कहना है कि बड़ी संख्‍या में और अधूरे रूप से टीकाकरण कोरोना वायरस के नए वैरियंट्स के जन्म का कारण बन सकता है। इसलिए पहले संवेदनशील और जोखिम श्रणी वाले लोगों को टीका लगाया जाना चाहिए। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में महामारी की मौजूदा स्थिति को देखते हुए ये उचित होगा कि सभी आयु वर्ग के लोगों की जगह महामारी संबंधी आंकड़ों को ध्‍यान में रखकर टीकाकरण के लिए रणनीति बनानी चाहिए. ये रिपोर्ट प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सौंपी गई है.

  1. कोवैक्सीन को झटका, WHO की मंजूरी का इंतजार पर, अमेरिका ने ठुकराया

भारत बायोटेक की COVID-19 वैक्सीन कोवैक्सीन को अमेरिका ने इमर्जेंसी इस्तेमाल की मंजूरी नहीं दी है. अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने इसके इमर्जेंसी इस्तेमाल के अनुरोध को ठुकरा दिया है. हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रधान मेडिकल सलाहकार डॉ फाउची ने कोवैक्सीन के प्रभावी होने की बात को स्वीकार किया था. आशंका है कि अमेरिका के इस रुख से भारत के उस अभियान को भी झटका लग सकता है, जिसके तहत भारत कोवैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन से मान्यता दिलवाने में लगा है.

  1. मेघालय की खदान में 12 दिनों से फंसे हैं 5 मजदूर, नौसेना से राज्य सरकार ने मांगी मदद

मेघालय एक कोयला खदान के अंदर पिछले 12 दिनों से 5 मजदूर फंसे हुए हैं। खदान में जल स्तर काफी ज्यादा है, इसलिए बचावकर्मी जल स्तर कम होने का इंतजार कर रहे हैं। अब मेघालय सरकार ने भारतीय नौसेना से मदद मांगी है। कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूरों के बचाव अभियान में कोई प्रगति ना देखते हुए मेघालय सरकार ने नौसेना से मदद की गुहार लगाई है। बता दे कि ईस्ट जयंतिया हिल्स में डायनामाइट विस्फोट के बाद पानी भर गई, जिससे अवैध कोयला खदान के अंदर पिछले 12 दिनों से पांच मजदूर फंसे हुए हैं.

9.देश में लगातार चौथे दिन एक लाख से कम आए केस, लेकिन अधिक मौतों पर ब्रेक नहीं

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 91,702 नए कोरोना केस आए और 3403 संक्रमितों की जान चली गई है. वहीं 1 लाख 34 हजार 580 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं. यानी कि बीते दिन 46,281 एक्टिव केस कम हो गए. इससे पहले बुधवार को 94,052 केस दर्ज किए गए थे. कुल कोरोना केस- दो करोड़ 92 लाख 74 हजार 823,कुल डिस्चार्ज- दो करोड़ 77 लाख 90 हजार 73,कुल एक्टिव केस- 11 लाख 21 हजार 671,कुल मौते- 3 लाख 63 हजार 79

  1. बारिश बनी आफत: मुंबई में 24 घंटे में मकान ढहने की दो घटनाएं, 8 बच्चों समेत 13 की मौत

मुंबई में भारी बारिश के चलते पिछले 24 घंटे में मकान ढहने की दो अलग- अलग घटनाओं में करीब 13 लोगों की मौत हो गई. इसमें आठ बच्चे भी शामिल हैं. एक घटना उपनगरीय इलाके दहिसर तो दूसरी मलवानी की है. मुंबई में बीते दिनों से हो रही बारिश से जनजीवन ठप हो गया. इसके अलावा ओडिशा- पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान के कई जिलों में अगले दो दिनों में भारी बारिश का अनुमान है. क्योंकि अब दक्षिण-पश्चिम मानसून उत्तर-पूर्वी राज्यों में सक्रिय हो चुका है.

Source: Different News websites