17 April 2021: Today’s Top Most 10 Environmental News।Weather news in India।Latest News Update।

  1. Upper Ganga Canal की होगी सफाई, Delhi-NCR में एक हफ्ते तक रहेगा जलसंकट

हरिद्वार से आने वाली अपर गंगा नहर में आज शाम से पानी की आपूर्ति कम हो जाएगी. इससे दिल्ली के साथ ही नोएडा और गाजियाबाद में भी पानी की सप्लाई की कमी हो सकती है. दिल्ली जल बोर्ड के अफसरों के मुताबिक अपर गंगा नहर से सोनिया विहार और भागीरथी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट को 25-30 फीसदी तक जलापूर्ति प्रभावित होगी. इससे दिल्ली के 35 से अधिक इलाकों में लोगों को कुछ दिनों तक दिक्कत झेलनी पड़ सकती है. जल बोर्ड ने प्रभावित इलाके के लोगों से संभलकर पानी इस्तेमाल करने की सलाह दी है. दिल्ली जल बोर्ड के मुताबिक गंग नहर को हर साल साफ सफाई के लिए कुछ दिनों तक बंद रखा जाता है. इस दौरान पानी की सप्लाई बंद कर दी जाती है. जिससे दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद के लोगों की परेशानी बढ़ जाती है.

2.उत्तराखंड के वन क्षेत्र में बीते एक दिन में 95 जंगल में आग की घटनाएं, कुल 198.68 हेक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित

उत्तराखंड के वन क्षेत्र में बीते एक दिन में 95 अग्नि की घटनाएं हुईं। इनमें से आरक्षित वन क्षेत्र में 80 घटनाएं हुई हैं। 47 गढ़वाल मंडल और 32 कुमाऊं में घटित हुईं। 1 वन्यजीव क्षेत्र में हुई है। सिविल व वन पंचायत क्षेत्र में 15 अग्निकांड हुए हैं। इनमें 6 गढ़वाल, 7 कुमाऊं व 2 वन्यजीव क्षेत्र में हुए हैं। इसमें कुल 198.68 हेक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित हुआ है। वित्तीय तौर 390073 रुपये की हानि हुई है। एक इंसान की मौत हुई है और एक नागरिक घायल भी हुआ है।

3.महाराष्ट्र सरकार के सामने इस बार फिर दोहरी चुनौती, कोरोना के साथ मानसून का करना होगा सामना

कोरोना संकट का सामना कर रही मुंबई में दोहरी मार पड़ सकती है. बीएमसी के सामने लगातार दूसरे वर्ष कोरोना और मॉनसून से भी निपटने की चुनौती है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बीएमसी कमिश्नर आईएस चहल को निर्देश दिया कि मॉनसून के दौरान कोरोना और बारिश की समस्या से निपटने की तैयारी पूरी होनी चाहिए। शुक्रवार को उद्धव ठाकरे ने अधिकारियों के साथ मॉनसून पूर्व की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि कोरोना के बढ़ते प्रभाव के बावजूद मॉनसून पूर्व की तैयारियों पर कोई असर नहीं होनी चाहिए।

4.जम्मू-कश्मीर में गठित प्रदूषण नियंत्रण समिति पर कश्मीर के राजनीतिक दलों की सियासत शुरु

25 मार्च 2021 को एक अधिसूचना के तहत केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर प्रदूषण नियंत्रण समिति का गठन किया. इस 14 सदस्यीय समिति में कश्मीर संभाग का एक भी पर्यावरणविद् या एनजीओ नहीं है. अब इस प्रदूषण नियंत्रण समिति को लेकर विवाद पैदा हो गया है. 14 सदस्यीय समिति में कश्मीर घाटी के किसी पर्यावरणविद् या एनजीओ को शामिल न किए जाने पर कश्मीर केंद्रीत सियासी दलों ने सियासत शुरु कर दी है. साथ में कई एनजीओ भी शामिल है. इतना ही नही समिति के खिलाफ अदालत में भी जाने की धमकी भी दी गयी है. समिति में कश्मीर की उपेक्षा का मुद्दा बनाते हुए कहा है कि यह एक तरह से कश्मीरियों को बेइज्जत करना, उनके प्रति दुराग्रह रखे जाने जैसा है.

5.गेहूं के फसल अवशेष जलाने वाले किसानों पर कृषि विभाग की रहेगी निगरानी, कमेटी गठित

हरियाणा के कैथल में गेहूं के फसल अवशेष जलाने वाले किसानों की अब खैर नहीं है। जिला कृषि विभाग की तरफ से स्पेशल टीम गठित कर दी है। यह टीम गांव- गांव जाकर खेतों का निरीक्षण करेगी। अगर कोई आग का मामला सामने आता है, तो आग लगाने वाले किसानों के खिलाफ कानून कार्रवाई करेगी। कृषि विभाग के अधिकारियों के अनुसार, फसल अवशेष न जलाकर पर्यावरण संरक्षण को बचाया जा सकता है। वायु प्रदूषण होता है, जिससे श्वास संबंधी रोग बढ़ने का खतरा रहता है।

  1. 6. उत्तर प्रदेश: वन विभाग ने शासन को भेजी रिपोर्ट, 95 फीसद पौधे हरे भरे

उत्तर प्रदेश के हमीरपुर से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. जिले में सामाजिक वानिकीकरण के तहत 28 विभागों द्वारा रोपित किए गए पौधों को वन विभाग ने जांच के बाद 95 फीसद जीवित बताया है। जबकि हकीकत इससे काफी उलट है। कई विभागों ने तो जमीन न होने के बाद भी पौधे रोपित कर उनके 95 फीसद जीवित होने की रिपोर्ट भी दी है। वर्ष 2020-21 में शासन द्वारा जिले के 28 विभागों को पौधारोपण करने का अलग अलग लक्ष्य दिया गया था। जिसमें वन विभाग को 6165.12 एकड़ में पौधा रोपड़ करने का लक्ष्य दिया गया था। जिसे विभाग ने शत प्रतिशत पूरा करने का दावा किया था।

  1. 7. हिमाचल प्रदेश: खेतों या घासनियों में आग लगाने से पहले विभाग को दें सूचना

हिमाचल प्रदेश में जंगलों में लगने वाली आग को रोकने के लिए प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद दिखाई दे रहा है. वनों की आग पर काबू पाने के लिए जहा वन विभाग पूरी तरह से तैयार है, वहीं ग्रामीणों से भी संवाद करके उन्हें जागरूक किया जा रहा है। वनों में आग लगने से पर्यावरण को होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी दी जा रही है। इसी कड़ी में डीएफओ नालागढ़ यशुदीप सिंह ने वन क्षेत्र मामला गांव का दौरा किया और वहां पशुओं को चराने आए ग्रामीणों को जागरूक किया।

  1. उत्तर प्रदेश के हापुड़ में कूड़े के ढ़ेर में लगी भीषण आग, किसानों को लाखों रुपय का नुकसान

हापुड़ में कूड़े के ढ़ेर में लगी भीषण आग लग गई। आग से वहां अफरा-तफरी का माहौल हो गया है। इस आग से किसानों को लाखों का नुकसान हुआ। हालाँकि अब इस आग पर काबू पा लिया गया है.

  1. पिछले 24 घंटो में कोरोना के 2,34,692 नए मामले,1341 लोगों की मौत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटो में 2,34,692 नए मामले रिपोर्ट हुए हैं और 1341 लोगों की मौत हुई है. इसके साथ ही भारत में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 1 करोड़ 45 लाख 26 हजार 609 हो गई है. जिसमें से 1,75,649 लोगों की जान इस संक्रमण की वजह से गई है. संक्रमण से अब तक भारत में 1,26,71,220 ठीक हुए हैं. देश में अब एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 16,79,740 हो गई है जो कि कुल केस का 11.56 फीसदी है.

  1. उत्तराखंड : दो माह में करें ट्रंचिंग ग्राउंड के कूड़े का निस्तारण, एनजीटी ने दिए सरकार को आदेश

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने उत्तराखंड के कोटद्वार और दुगड्डा नगरों में कूड़ा निस्तारण की व्यवस्था एक साल बाद भी दुरुस्त नहीं होने के मामले में सुनवाई करते हुए उत्तराखंड सरकार को दो माह के भीतर ट्रंचिंग ग्राउंड से कूड़े के ढेरों का निस्तारण करने के आदेश दिए हैं. कोर्ट ने तय समयावधि में कूड़ा निस्तारण के लिए मजदूरों की संख्या बढ़ाने के आदेश दिए हैं.

Source: Different news websites