महज 20 दिनों में 2 बार कोरोना से संक्रमित हुई महिला, चौथी लहर की टेंशन के बीच साइंटिस्टों ने दी सख्त चेतावनी

कोविड (Covid-19) की चौथी लहर से दुनिया जूझ रही है।  कोरोना वायरस (Coronavirus) के अलग-अलग वेरिएंट दुनियाभर में लोगों की मुश्किलें बढ़ा रहे हैं। कोविड संक्रमित होना इन दिनों बेहद खतरनाक साबित हो रहा है। कोरोना वायरस की चौथी लहर के बीच एक टेंशन को बढ़ाने वाली खबर  सामने आयी है।  शोधकर्ताओ के अनुसार स्पेन (Spain) की एक महिला 20 दिनों के अंदर  2 बार कोविड-१९ के अलग अलग वैरिएंट से संक्रमित हुई है। शोधकर्ताओ का कहना है कि यह संक्रमण होने के बीच का अब तक का सबसे कम अंतर है।

डेल्टा और ओमिक्रॉन से हुई संक्रमित

31 साल की यह महिला स्पेन के मेड्रिड (Madrid) शहर में रहती है और स्पेनिश सइंटीस्टो का कहना है की इस महिला को महज 20 दिन के अंदर २ बार कोरोना -19 का संक्रमण हुआ है। दिसंबर के अंत में इस महिला को जहा डेल्टा वेरिएंट (Delta Variant) के संक्रमण का सामना करना पड़ा , वहीं, जनवरी में उसे ओमिक्रॉन (Omicron) का सामना करना पड़ा।

पूरी तरह से वैक्सीनेटेड थी महिला

स्पेन के इस केस पर स्टडी के बाद शोधकर्ताओं ने कहा है महिला पूरी तरह से वैक्सीनेटेड थी।  ऐसे में वैक्सीनेटेड व्यक्ति भी एक बार से ज्यादा कोविड संक्रमित हो सकता ह।   अब तक की स्टडी के मुताबिक ब्रिटेन में कोविड से दोबारा संक्रमित होने के लिए 90 दिन लगते हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों ने दावा किया है कि अप्रैल की शुरुआत के साथ ही करीब 9,00,000 लोग दोबारा कोविड संक्रमित हो गए है।

सामने नहीं आये कोई लक्षण

स्पैनिश महिला जब पहली बार कोविड से संक्रमित हुई थी तब उसमें कोविड के कोई लक्षण पीसीआर टेस्ट (PCR Test) में भी सामने नहीं आए थे।  3 सप्ताह बाद ही महिला के भीतर कफ और बुखार से परेशान हो गई।  जब टेस्ट हुआ तो पता चला कि महिला 2 बार कोविड के अलग-अलग वेरिएंट से संक्रमित हो गई है।

महिला ने लिया था बूस्टर शॉट

वैज्ञानिकों का कहना है कि महिला को पूरी तरह से टीका लगाया गया था. यहां तक ​​कि उसने बूस्टर शॉट भी लिया था. सभी सुरक्षा के बावजूद, महिला पिछले साल 20 दिसंबर को कोरोना टेस्ट (Corona Test) में पॉजिटिव पाई गईं. हालांकि, उनमें कोई कोरोना के लक्षण नहीं दिखाई दिए थे. काम पर दोबारा लौटने से पहले उसने खुद को 10 दिनों के लिए आइसोलेट भी किया था.

तेजी से फ़ैल रहा है ओमिक्रोण BA2

 दुनिया भर ने ओमिक्रोण के वैरिएंट काफी तेजी से फ़ैल रहे है। लंदन के इंपीरियल कॉलेज के एक अध्ययन  मुताबिक ओमिक्रोन वेरिएंट के दोबारा होने की आशंका डेल्टा वेरिएंट की तुलना में 5.4 गुना अधिक है। ओमिक्रोन वेरिएंट की वजह से दुनियाभर में कोविड के मामले एक बार फिर से बढ़ने लगे हैं. दुनिया के कई देशों में प्रतिबंध बढ़ाए जा रहे हैं।