20 July 2021: Today’s Top Most 10 Environmental News।Weather news in India।Latest News Update

1. वर्ष 2019-20 में 34 लाख टन से अधिक प्लास्टिक कचरा पैदा हुआ : सरकार

पर्यावरण मंत्रालय ने बताया कि वित्त वर्ष 2019-2020 में 34 लाख टन से अधिक प्लास्टिक कचरा पैदा हुआ जो 2017-18 की तुलना में 10 लाख टन अधिक है। पर्यावरण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने एकल उपयोग वाले प्लास्टिक को चरणबद्ध तरीके से खत्म करने के लिए सरकार की नीति और प्लास्टिक के सालाना कचरे की मात्रा के बारे में पूछे गए एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2019-20 में भारत में 34,69,780 टन प्लास्टिक कचरा पैदा हुआ जबकि 2018-19 में 33,60,043 टन और 2017-18 में 23,83,469 टन प्लास्टिक कचरा पैदा हुआ था।

2.कोरोना से हुई तबाही की भरपाई में और अधिक होगा कार्बन उत्सर्जन, 2023 तक अपने रिकॉर्ड स्तर पर होगा उत्पादन

कोरोना महामारी और जलवायु परिवर्तन को लेकर अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (आईईए) ने मंगलवार को एक चौंकाने वाली रिपोर्ट जारी की है। एजेंसी ने कहा है कि यदि भविष्य में दुनिया के सभी देशों ने कोरोना काल में हुई तबाही की भरपाई के लिए बनाई गई अपनी-अपनी योजनाओं को साकार कर लिया तो इस प्रक्रिया में कार्बन गैस का उत्सर्जन साल 2023 तक अपने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच जाएगा। अपनी रिपोर्ट में एजेंसी ने आगे बताया कि आने वाले वर्षों में भी कॉर्बन उत्सर्जन की यह वृद्धि जारी रहेगी। रिपोर्ट के अनुसार आने वाले समय में कार्बन प्रदूषण पेरिस जलवायु समझौते में तय किए गए मानक से साढ़े तीन अरब टन अधिक होगा।

3. दिल्ली में कोरोना को बढ़ाने में पीएम 2.5 के वे पार्टिकल्स जिसमें ब्लैक कार्बन अधिक मात्रा में रहते है वो भी जिम्मेदार!

राजधानी में कोरोना संक्रमण के जबर्दस्त तरीके से फैलने की बड़ी वजह पराली और बायोमास का जलना भी है। इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ ट्रॉपिकल मेटरोलॉजी (आईआईटीएम) की राजधानी में हुई स्टडी में यह दावा किया गया है। यह स्टडी कोविड की लहर के दौरान सितंबर से दिसंबर-2020 के बीच की गई। इसमें दावा किया गया है कि सभी तरह के पीएम 2.5 पार्टिकल्स कोरोना के प्रसार का कारण नहीं होते। बल्कि पीएम 2.5 के वे पार्टिकल्स जिसमें ब्लैक कार्बन अधिक मात्रा में रहता है, वही कोरोना वायरस को आक्रामक बनाते हैं और उनके फैलने में मदद करते हैं।

4. देशभर में डेयरी फार्म और गोशालाओं के लिए अब पंजीकरण कराना हुआ अनिवार्य

पर्यावरण संरक्षण के लिए दिल्ली-एनसीआर सहित देश भर में डेयरी फार्म और गोशालाओं के नियम और अब सख्त कर दिए गए हैं। इनके संचालकों को जल एवं वायु प्रदूषण की रोकथाम भी सुनिश्चित करनी होगी और पानी की बर्बादी भी रोकनी होगी। सभी डेयरियों और गोशालाओं का स्थानीय स्तर पर पंजीकरण कराना भी अनिवार्य कर दिया गया है।

5. वन भूमि मेदांता अस्पताल को इस्तेमाल के लिए देने पर हरियाणा के वन विभाग को एनजीटी की फटकार

राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने गुरुग्राम स्थिति मेदांता अस्पताल को वन भूमि का इस्तेमाल गैर वन कार्य के लिए करने की अनुमति देने पर हरियाणा के वन विभाग को फटकार लगाई है. एनजीटी ने अदालत को अस्पताल पर निर्धारित प्रक्रिया के तहत वन क्षेत्र को नुकसान पहुंचाने पर जुर्माना लगाने के साथ हर्जाना जमा कराने का निर्देश दिया है।

6.1000 KG मछली, 250 KG मिठाई, 50 चिकन, 10 बकरे… महिला को मिले इतने गिफ्ट

आंध्र प्रदेश में नवविवाहित बेटी को एक पिता द्वारा दिया गया ‘उपहार’ शहर में चर्चा का विषय बन गया है. राजमुंदरी के एक प्रमुख व्यवसायी ने अपनी बेटी के घर 1000 किलो मछली, 1000 किलो सब्जी, 250 किलो झींगा, 250 किलो किराना, 250 जार अचार, 250 किलो मिठाई, 50 चिकन, 10 बकरे भेजें. बेटी की शादी पुडुचेरी के यनम में हुई है. पिता ने अपनी बेटी को यह बड़ा तोहफा ‘साड़ी’ के नाम से भेजा है.

7. हरियाणा में प्रदूषण को कम करने की कवायद, वीटा ने लगवाए 10 वायो गैस प्लांट

हरियाणा के अंबाला में वीटा मिल्क प्लांट प्रदूषण को रोकने के लिए कदम आगे बढ़ा रहा है। जिसमें सबसे पहले धुंए को रोकने के इंतजाम किए जा रहे हैं। वीटा में जहां लकड़ी, गोबर के उपलों का इस्तेमाल किया जाता है। उस पर काफी हद तक कटौती होगी। क्योंकि इस धुएं को कम करने के लिए 10 बायो गैस प्लांट लगवाए गए हैं।

8. दिल्ली: कार-टैंकर की जोरदार भिड़ंत, बच्चे समेत तीन की मौत, दिल्ली जल बोर्ड का ड्राइवर फरार

Delhi Accident दिल्ली में जफरपुर कलां इलाके में दुर्घटना की खबर सामने आई है। यहां पानी के टैंकर से एक कार की जोरदार टक्कर हो गई। इसमें चार महीने के बच्चे समेत तीन लोगों की मौत हो गई। हादसे के बाद टैंकर का ड्राइवर फरार हो गया। बताया जा रहा है आरोपी दिल्ली जल बोर्ड का ड्राइवर है और उसकी पहचान विवेक के रूप में हुई है। इस बारे में दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने जानकारी दी है।

9. लखनऊ: पर्यावरण के लिए आगे NSG के जवान, भविष्य के लिए लिया यह संकल्प

पर्यावरण बचाओं के तहत आयोजित एनएसजी प्लान्टेशन ड्रॉइव2021 के तहत टास्क फोर्स लखनऊ स्थित एनएसजी द्वारा वन विभाग के सहयोग से रिजर्व फोरेस्ट कुकरैल में पौधारोपण किया गया। इस दौरान इमली,आवला,जामुन मोलसरी तथा सहजन जैसे पौधे लगाए गए। सभी जवानों ने इस दौरान न केवल पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया बल्कि भविष्य में भी इसी तरह के पौधारोपण कार्यक्रम समय-समय पर आयोजित करते रहने का भी संकल्प लिया।

10.यूरोप में 100 साल की सबसे भयंकर बाढ़, 200 से अधिक की गई जान, नीदरलैंड ने पेश की मिसाल

यूरोप के कई देश जैसे जर्मनी, बेल्जियम, स्विट्जरलैंड, लक्जमबर्ग, नीदरलैंड और स्पेन में बारिश ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। अधिकांश देशों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। जहां कई यूरोपीय देशों में जान-माल का भारी नुकसान हुआ है. रिकॉर्ड बारिश के कारण यूरोप को 70 हजार करोड़ का नुकसान होने का अनुमान है। बाढ़ की चपेट में आकर 200 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। सैंकड़ों लोगों के लापता होने की खबर है। बेल्जियम में बाढ़ से 20 लोगों की मौत हो जाने के कारण आज वहां राष्ट्रीय शोक दिवस घोषित किया गया है. वहीं नीदरलैंड ने अपने जल प्रबंधन से एक मिसाल पेश की है, वहां भारी बारिश के बाद भी कोई जनहानि नहीं हुई है।

Source: Different News Website