22 July 2021: Today’s Top Most 10 Environmental News।Weather news in India।Latest News Update

  1. लॉकडाउन के दौरान नहाने लायक हो गया था यमुना का पानी

दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के शोधार्थियों ने पिछले वर्ष लॉकडाउन (मार्च से मई 2020) के दौरान यमुना के जल का अध्ययन किया। नौ जगहों से लिए गए जल के नमूनों का प्रयोगशालाओं में परीक्षण किया गया। आंकड़ों का अध्ययन करने के बाद शोधार्थियों ने पाया कि यमुना के जल में प्रदूषण का स्तर घटा। इसके पीछे बड़ी वजह जल की अधिक उपलब्धता व औद्योगिक इकाइयों का बंद होना बताया गया है। अध्ययन में दावा किया गया है कि लॉकडाउन के दौरान विभिन्न मानकों के आधार पर दिल्ली में यमुना के जल में 21 फीसद प्रदूषण कम दर्ज किया गया। साथ ही जल की उपलब्धता पांच गुना तक बढ़ी थी।

2.महाराष्ट्र में जारी बारिश का तांडव, कोल्हापुर और चिपलुन में NDRF तैनात, मुंबई के लिए भी अलर्ट जारी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में हो रही भारी बारिश के चलते सभी अधिकारियों को अगले 3 दिनों तक सतर्क रहने का आदेश दिया है। दरअसल मौसम विभाग ने आने वाले 3 दिन तक राज्य में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। खास तौर पर कोंकण इलाके में मौसम विभाग में रेड अलर्ट जारी किया है।

  1. दिल्ली जल बोर्ड 24 घंटे पानी की आपूर्ति करने के लिए कई टेंडर जारी करेगा

दिल्ली के जल मंत्री एवं दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष सत्येंद्र जैन ने दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों के साथ राजधानी में 24 घंटे पानी आपूर्ति की परियोजना को लेकर समीक्षा बैठक की. दिल्ली जल बोर्ड इस योजना को लागू करने के लिए कई टेंडर जारी करेगा. जल मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि जल विभाग शहर में 24 घंटे पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करने की दिशा में काम कर रहा है.

4.महाराष्ट्र में सैलाब, बाढ़ में डूबा पूरा चिपलून शहर, कई फीट भरा पानी, रेस्क्यू शुरू

मुंबई और उसके आसपास के इलाकों में बीते दिन रात भर हुई भारी बारिश से महाराष्ट्र के चिपलून शहर में भीषण बाढ़ आ गई है. पूरा शहर बाढ़ की चपेट में आ गया। बाजार पानी में डूब गए, सड़कें नदी में तब्दील हो गए। यहां तक की बस डिपो पूरा डूब गया. शहर के निवासियों ने सुरक्षित स्थानों पर ट्रांसफर करने के लिए ट्विटर पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मदद मांगी. चिपलून शहर के जो फोटो और वीडियो सामने आ रहे हैं, उसमें पूरा शहर डूबा हुआ है. लोग अपने घरों में फंसे है. फिलहाल एनडीआरएफ की टीमें राहत-बचाव का काम कर रही है.

  1. एक सेकंड में 8 किमी की रफ्तार, धरती के पास से गुजरेगा उल्कापिंड, समय सुबह 1.05 बजे

 धरती की ओर एक विशाल एस्टेरॉयड तेज गति से बढ़ रहा है और संभावना जताई जा रही है कि यह एस्टेरॉयड 24 जुलाई को हमारी धरती के नजदीक से गुजरेगा। खगोल वैज्ञानिकों ने इस एस्टेरॉयड का नाम “2008 Go20” रखा है और बताया है कि यह एस्टेरॉयड एक स्टेडियम के आकार या ताजमहल के आकार से तीन गुना होने का संभावना है। NASA के वैज्ञानिकों ने बताया है कि एस्टेरॉयड 18,000 मील प्रति घंटे की गति से धरती की ओर लगातार बढ़ रहा है। इसकी रफ्तार औसतन 8 किलोमीटर प्रति सेकंड है। इतनी तेज गति के कारण अपने रास्ते में आने वाली सभी चीजों को यह बुरी तरह से नष्ट कर सकता है।

  1. कचरे का प्रबंधन: बंधवाड़ी साइट पर खुले में कचरा जलाने पर एनजीटी ने जताई चिंता, जांच के लिएपैनल गठित

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने गुरुग्राम में बंधवाड़ी लैंडफिल साइट से कचरे का प्रबंधन पर्यावरण नियमों के मुताबिक नहीं होने पर गंभीर चिंता जताई है। एनजीटी ने कहा कि एक लोक कल्याणकारी राज्य नागरिकों के स्वास्थ्य की रक्षा के संवैधानिक जिम्मेदारियों से भाग नहीं सकता। एनजीटी ने इसके साथ ही दोषी अधिकारियों की लगातार लापरवाही के लिए जिम्मेदारी तय करने को कहा।एनजीटी ने मौके का जायजा लेने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया।

  1. मध्य प्रदेश के जबलपुर में प्रदूषण कम करने के लिए होगा बड़े स्तर पर काम, केंद्र सरकार ने दिए 59 करोड़ रुपए

मध्य प्रदेश के जबलपुर में वायु प्रदूषण का स्तर कम करने के लिए केंद्र सरकार से 59 करोड़ रुपए का अनुदान मिला है। प्रदेश शासन ने ज्यादा वायु प्रदूषण वाले 6 शहरों को नॉन अटेनमेंट सिटी घोषित किया था। इस बार जबलपुर को भी नॉन अटेनमेंट सिटी में शामिल किया गया है। केंद्रीय वन व पर्यावरण मंत्रालय ने नेशनल क्लीन एयर प्रोग्राम के तहत नगर निगम को अनुदान दिया है। इस राशि का उपयोग निगम को वायु प्रदूषण रोकने के लिए करना है.

  1. जम्मू-कश्मीर की महिलाओं को मिला अधिकार, प्रदेश से बाहर शादी करने पर पति भी बन सकेगा मूल निवासी

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने प्रदेश की बेटियों के पक्ष में एक अहम निर्णय लिया है. अब जम्मू-कश्मीर की वैसी लड़कियां जो अपने प्रदेश से बाहर भारत के किसी दूसरे पुरुष से शादी करती हैं उनके पति और बच्चों को भी राज्य का मूल निवासी प्रमाण पत्र दिया जाएगा. इससे पहले महिलाओं को ये अधिकार नहीं था. यानी कि ऐसे महिलाओं के पति राज्य के मूल निवासी नहीं माने जाते थे. जम्मू कश्मीर में लैंगिक असमानता को दूर करने की दिशा में ये बड़ा कदम माना जा रहा है.

  1. कोरोना के खतरे को बढ़ा सकता है जंगल की आग का धुआं

हाल के वर्षों में जंगल में लगने वाली आग की घटनाओं में वृद्धि से वन्य-जीवों के साथ-साथ स्थानीय जैव-विविधता पर संकट बड़े पैमाने पर बढ़ा है।एक नये अध्ययन में अब पता चला है कि जंगल की आग का धुआं सार्स-कोव-2 वायरस, जो कोविड-19 संक्रमण के लिए जिम्मेदार है, के जोखिम को भी बढ़ा सकता है। अमेरिका के रेनो, नेवाडा स्थित डेजर्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में यह अध्ययन किया गया है।

  1. अमेरिका के 13 राज्यों में 80 जगहों पर लगी आग, लाखों एकड़ जमीन हुई बेकार, 160 घर और इमारतें नष्ट

संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका के ओरेगन राज्‍य के जंगलों में लगी आग काफी विकराल रूप ग्रहण करती जा रही है। अमेरिका के 13 राज्यों में 80 जगहों पर आग लगी है। तेज हवाओं के कारण लगी आग पर काबू पाना मुश्किल हो रहा है। इस आग से सबसे अधिक उस इलाके के ग्रामीण प्रभावित हुए हैं। कम से कम 2,000 लोगों को अपना घरबार छोड़ना पड़ा है। आग की चपेट में आकर अब तक कम से कम 160 घर और इमारतें नष्ट हो चुकी हैं। दिन- रात आग पर काबू पाने के लिए काम कर रहे हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि जलवायु परिवर्तन से गर्म, शुष्क मौसम का खतरा बढ़ जाता है जिससे जंगल में आग लगने की आशंका भी बढ़ जाती है।

Source: Different News Website