नॉएडा में कोरोना से संक्रमित 78 प्रतिशत मरीजों की दिल का दौरा पड़ने से हुई मौत

कोरोना वायरस की दूसरी लहर मौत का आंकड़ा एक नया रिकॉर्ड बना रहा है. इसी बीच नॉएडा के एक कोविड अस्पताल से जानकारी सामने आई है वो अपने आप में हैरान करने वाली है. जहाँ एक तरफ दवाओं और आक्सीजन की कमी को अधिक लोगों की मौत की वजह मानी जा रही है. वहीँ नोएडा के डॉक्टरों के मुताबिक कोरोना वायरस की दूसरी लहर में शहर में संक्रमित 78 प्रतिशत मरीजों की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई।

सेक्टर-39 स्थित कोविड-19 अस्पताल की चिकित्सा अधीक्षक डॉ. रेणु अग्रवाल ने बताया कि नोएडा में कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से हुई मौतों का विश्लेषण किया गया और पाया गया कि ज्यादातर मरीजों को दिल का दौरा पड़ा,
उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से मरीजों के खून में थक्के बन जाते हैं। इससे ‘हार्ट अटैक’ की आशंका बढ़ जाती है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि गौतम बुद्ध नगर जिले में कोविड-19 के संक्रमण की वजह से बृहस्पतिवार तक 285 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से 78 प्रतिशत मरीजों की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई।

अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 की चपेट में आए सभी मरीजों को सांस लेने में गंभीर परेशानी हुई और उन्हें निमोनिया भी हुआ। सांस लेने में परेशानी होने और ह्रदय पर जोर पड़ने से संक्रमित मरीजों को दिल का दौरा पड़ने की आशंका रहती है..
हाल ही में कई मरीजों की मौत के पीछे की वजह दिल का दौरा पड़ना बताया गया है लेकिन इस पर सवाल उठाये जा आरहे थे लेकिन नॉएडा के कोविड अस्पताल के डॉक्टरों के खुलासे के बाद अब उए बाद स्पष्ट हो गयी है कि अधिकतर मरीजों की जान दिल का दौरा पड़ने की वजह से जा रही है.