पढ़िए पूरे दिन भारत बंद को लेकर देशभर में क्या हुआ?

किसान बिल के विरोध में आठ दिसंबर को भारत बंद बुलाया गया था… भारत बंद का असर थोड़ा बहुत सडकों पर देखने को मिला लेकिन अधिकतर जगहों पर राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ता हंगामा करते हुए दिखाई दिए..

दिल्ली के सभी बार्डर पर किसान डेट हुए हैं और दिल्लीमें प्रवेश करने की लगभग सभी सीमाएं बंद कर दी गयी… दिल्ली के अंदर बंद का असर बेहद कम देखने को मिला…उत्तर प्रदेश के लगभग सभी जिलों में सपा के कार्यकर्ता भारत के समर्थन में सड़कों पर उतरे लेकिन पुलिस की सख्ती और तैनाती से उन्हें हटाया गया.. वहीँ कई नेताओं को नजरबन्द कर दिया… नजरबंद पर सबसे ज्यादा हंगामा दिल्ली के मुख्यमंत्री को लेकर हुआ… आप पार्टी ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री को दिल्ली पुलिस ने नजरबन्द कर दिया है लेकिन फिर दिल्ली पुलिस द्वारा कहा गया है कि मुख्यमंत्री जी नजरबंद नही है बल्कि उनके घर के बाहर सुरक्षा वयवस्था चुस्त की गयी है. किसानों ने बंद के दौरान नेशनल हाईवे 24 को 4 घंटे के लिए जाम कर दिया. जिसके बाद दिल्ली- गाजियाबाद मुख्य मार्ग बंद हो गया. किसानों को रोकने के लिए वहां भारी पुलिस की तैनाती की गयी है.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों द्वारा आहूत ‘भारत बंद’ के बीच लोगों का आह्वान किया कि वे किसानों का साथ दें और उनके संघर्ष को सफल बनाएं. राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को संबोधित ट्वीट किया, मोदी जी, किसानों से चोरी बंद करो. सभी देशवासी जानते हैं कि आज भारत बंद है. इसका संपूर्ण समर्थन करके हमारे अन्नदाता के संघर्ष को सफल बनाएं.

वहीँ भारत बंद के मद्देनजर किसानों ने पंजाब के मोहाली में चंडीगढ़ हाईवे को भी जाम कर दिया है. जाम हटाने के लिए पुलिस बल लगाये गये..बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार के विरोध में दरभंगा चौक पर टायर जलाया और किसान संघों द्वारा बुलाए गए Batat Bandh को अपना समर्थन दिया.आंध्र प्रदेश में आज सुबह-सुबह वामपंथी राजनीतिक दलों ने केंद्र सरकार के Farm Laws के खिलाफ किसान यूनियनों द्वारा बुलाए गए Bharat Bandh के समर्थन में विजयवाड़ा में विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान सौकड़ों की संख्या में लोग सड़क पर उतरे.

किसानों के भारत बंद को झारखंड, पंजाब, दिल्ली, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, केरल और महाराष्ट्र सरकार ने भारत बंद का समर्थन किया है. इसके अलावा ऑल इंडिया रेलवेमेन फेडरेशन, बीएसएनएल कर्मचारी संघ ने भी बंद का समर्थन किया है.पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने मिदनापुर में कहा, हमारी सरकार बंद का समर्थन नहीं करती है, लेकिन तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) किसानों के आंदोलन का समर्थन करेगी. वहीँ भारत बंद से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि किसी भी हाल में आम आदमी को कोई परेशानी न हो. साथ ही उन्होंने जबरन दुकान बंद करवाने वालों पर सख्ती के निर्देश भी दिए हैं. इसका असर भी देखने को मिला अखिलेश यादव से लेकर सपा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं का पुलिस से सामना हुआ और फिर पुलिस ने हटाने में लगी रही.

वहीँ झारखंड सरकार भारत बंद का समर्थन किया था.. जिसके बाद जेएमएम और कांग्रेस समेतकई कार्यकर्ता सड़कों पर उतर और केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की… मिली जानकारी के अनुसार रांची टाटा रोड, गुमला सिमडेगा हाइवे में किसानों ने जाम किया. सड़कों पर गाड़ियाँ कम ही निकली और कुछ दुकाने भी बंद मिली..

भारत बंद से पहले हरियाणा के किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ मुलाकात की. किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने तीनों कृषि कानूनों को लेकर अपना समर्थन जताया है. प्रतिनिधिमंडल ने तीनों कानूनों को निरस्त करने के बजाय उनमें कुछ संशोधन की मांग की. वहीँ खबरों की माने तो किसान बिल का प्रदर्शन कर रहे 12 दिनों 8 किसानों की मौत अलग अलग वजहों से हो चुकी है..

भारत बंद को राजनीतिक दलों के समर्थन पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद  (Ravishankar Prasad) ने कहा है कि राजनीतिक दल किसान के कंधे पर रखकर बंदूक चला रहे हैं. प्रसाद ने News18 India से बातचीत में दावा किया तीनों कानून के रहने के बाद भी मंडी और एमएसपी हमेशा जारी रहेगी. केंद्रीय मंत्री ने किसानों द्वारा तीनों कानून को रद्द करने की मांग को गलत बताते हुए कहा कि मोदी सरकार में किसान खुशहाल हो रहा है.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि किसान हमारा अन्नदाता है, किसानों के विकास और किसानों के लिए समर्पित सरकार है. उन्होंने कहा कि किसानों के लिए मंडी खत्म नहीं होगी और ना ही MSP खत्म होगी. किसानों की ज़मीन पर किसी का कब्ज़ा नहीं होगा. ये आश्वासन सरकार ने किसानों को दिया है.वहीँ भारत बंद के बीच हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से दिल्ली में उनके आवास पर मुलाकात की.

मिला जुलाकर ये देखा जाये तो कई ट्रेन रोकी गयी, कहीं सड़क जाम किया… सब कुछ खुला रहा है बस आम लोग परेशान हुए जो ट्रेन से सफ़र कर रहे थे उनकी ट्रेन रोक दी गयी. जो सड़क मार्ग से जा रहे थे वो जाम में फंस गये… कुल मिलाजुलाकर मिलाजुला असर देखने को मिला