दिल्ली में टूटा 90 साल का रिकॉर्ड, जानिये भीषण गर्मी से कब मिलेगी राहत?

देश में मानसून के दस्तक देने के बावजूद भी कई राज्य भीष गर्मी का सामना कर रहे हैं. राजधानी दिल्ली जहाँ अब तक मानसून पहुंचा होई नही है यहाँ गर्मी ने लोगों की हालत खराब कर दी है. तापमान लगातार बढ़ता जा रहा है और लू चलने से लोगों की मुश्किलें और बढती जा रही है.

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और उत्तरी राजस्थान में अगले दो दिन तक भीषण लू चल सकती है। मौसम विभाग ने कहा कि पाकिस्तान और उत्तर पश्चिमी भारत की ओर से पछुआ हवाएं चलने के कारण इन इलाकों में भीषण लू की स्थिति बन सकती है। बता दें कि इन राज्यों में तपस भरी गर्मी की स्थिति बनी हुई है, जिसके चलते मानसून के पहुंचने में भी देरी हो रही है.  हालाँकि रविवार से जरूर तापमान में थोड़ी कमी आने लगेगी। दक्षिणी पश्चिमी हवाएं भी कहीं-कहीं कुछ राहत दे सकती हैं, लेकिन मानसून की स्थिति में अभी एक सप्ताह तक कोई बदलाव होता नहीं दिख रहा। यानी जहां है वहीं बना रहेगा।

मानसून की देरी की वजह से उत्तर भारत में पड़ रही गर्मी ने पिछले कई वर्षों के रिकॉर्ड तोड़े हैं। देश की राजधानी दिल्ली में गुरुवार पहली जुलाई को अधिकतम तापामान 43.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है जो 90 साल में पहली जुलाई को दर्ज किया गया सबसे अधिकतम तापमान है। दिल्ली में हालात ऐसे हो गए हैं कि न्यूनतम तापमान भी 30 डिग्री सेल्सियस के ऊपर पहुंच गया है। पहली जुलाई को दिल्ली में न्यूनतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अगर रात में भी न्यूततम तापमान 30 डिग्री से ऊपर हो तो वह सामान्य नहीं होता।

तीन दिनों से जबरदस्त लू का प्रकोप झेल रही दिल्ली के मंगेशपुर में तापमान 45.2 डिग्री पर पहुंच गया। वहीं नजफगढ़ में 44 डिग्री और पीतमपुरा में 44.3 डिग्री रहा।दिल्ली में 29 जून को रात का न्यूनतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि 30 जून को दिल्ली का न्यूनतम तापमान 31.7 डिग्री रिकॉर्ड हुआ यानी एक दिन में 2 डिग्री से ज्यादा का इजाफा हुआ।

वहीँ अगर मानसूनी बारिश की बात करें तो भारतीय मौसम विभाग ने अपने ताजा अपडेट में बताया है कि अगले 24 घंटों में बिहार, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ में तेज गरज और चमक देखी जा सकती है। गरज-चमक इतनी तीव्रता वाली होगी कि इससे बाहर मौजूद लोगों और जानवरों को नुकसान पहुंच सकता है। अगले 6-7 दिनों में बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और उत्तर पूर्वी राज्यों के कुछ हिस्सों में भारी बारिश हो सकती है। वहीं अगले 3 दिनों में अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के कुछ हिस्सों में तेज से भारी बारिश हो सकती है। असम और मेघालय में भी भारी बारिश का अनुमान है. इस भीषण गरमी से राहत मानसून आने के बाद मिल सकती है.