गाजियाबाद में भी मिला काला फंगस का मरीज! जानिये कैसे करना है बचाव

गाजियाबाद : काला फंगस यानि ब्लैक फंगस अब  गाजियाबाद में भी प्रवेश कर चुका है ऐसे में लोगों को सावधान रहने की जरूरत है। यह जानकारी कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे मशहूर डॉक्टर बी पी त्यागी ने दी. काला फंगस कोरोना इलाज के दौरान अधिक स्टेरॉयड लेने से होता है। डॉ. बी पी त्यागी ने बताया कि काला फंगस शुगर व कमजोर इम्यूनिटी वाले मरीजों को अपना शिकार बनाता है। इस बीमारी के लक्षणों में चेहरे पर सुन्नपन आना, एक तरफ या दोनों तरफ की नाक का बंद होना, आंखों में कालीपन, सूजन, आंख की पुतला का ना घूमना, अंधापन होना, आंख से दो-दो दिखाई देना, तालू की लालिमा का खत्म होना, दांतों का हिलना, खाने में दिक्कत होना, सरदर्द, चक्कर आना, उल्टी आना, बेहोशी छाना व सुस्ती आना है।

डॉ. बी पी त्यागी ने बताया कि अगर शुगर मरीज व कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले मरीजों को कोरोना हुआ है और उन्हें कोरोना के दौरान व उसके तीन महीने बाद इन लक्षणों में से कोई लक्षण महसूस होता है तो वे तुरंत नाक, कान, गला व आंख स्पेशलिस्ट से संपर्क करें जो सीटी स्केन, एमआरआई आदि से उनका फैलाव देखेंगे।

काला फंगस के इलाज में पहले दिन ऑपरेशन करके डॉक्टर हर तीसरे दिन दूरबीन विधि से नाक की सफाई करता है। इतना ही नहीं जान बचाने के लिए कई बार आंख तक को निकालना पड़ता है। अच्छा इलाज लेकर 100 में से पांच मरीज ही बच पाते हैं। अगर काला फंगस दिमाग तक पहुंच जाए तो 100 में से सिर्फ एक मरीज ही बच पाता है।

ब्लैक फंगस दिल्ली, महाराष्ट्र उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में फ़ैल रहा है. कोरोना के मरीजों के बीच ये बीमारी अधिक देखने को मिल रही है ऐसे में कोरोना के मरीजों को ठीक होने के बाद बचाव के साथ और सर्तक रहने रहने की जरूरत है.