Corona के बाद African Swine Fever बना कहर, मिजोरम व त्रिपुरा सहित सिक्किम में बुरा असर, अब तक 37 हजार सूअरों की मौत

कोरोना के बाद अब एक और बीमारी ने ताबाही मचानी शुरू कर दी है। अब देश के नॉर्थ-ईस्ट के कई राज्यों में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू के मामले सामने आने लगे हैं. वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए मिजोरम की राज्य सरकार ने इसे ‘राज्य आपदा’ घोषित कर दिया। इस बीमारी के चलते अब तक 37,000 से अधिक सूअर मारे गए हैं। हालात इतने खराब हैं कि मिजोरम की सरकार इसे (African Swine Fever) आपदा घोषित करने की तैयारी कर रही है। मुख्यमंत्री जोरमथांगा (Chief Minister Zoramthanga) ने इस प्रकोप को राजकीय आपदा घोषित करने के लिए अपनी सहमति दे दी है. इस बीमारी ने मिजोरम के 7 जिलों के 50 से ज्यादा गांवों को प्रभावित किया है।

एक साल के अंदर बड़ी तादाद में मरे सुअर

मंत्री डॉ. बिछुआ ने बताया कि जल्द ही अफ्रीकी स्वाइन फीवर को आपदा घोषित करने वाली अधिसूचना जारी की जाएगी. राज्य के पशु चिकित्सा विभाग ने 25 मई को सुअरों की मौत के आंकड़े जारी किए हैं.। पिछले साल मार्च से लेकर 25 मई के पहले तक इस बीमारी के कारण 37 हजार से ज्यादा सुअरों की मौत हो चुकी है. इससे स्थानीय लोगों को भारी आर्थिक नुकसान उठाना पद रहा है।

क्या है अफ्रिकीअन स्वाइन फ्लू

एक अत्यधिक संक्रामक और खतरनाक पशु रोग है, जो घरेलू और जंगली सूअरों को संक्रमित करता है. इसके संक्रमण से सूअर एक प्रकार के तीव्र रक्तस्रावी बुखार से पीड़ित होते हैं. बता दें कि इस बीमारी को पहली बार 1920 के दशक में अफ्रीका में देखा गया था. इस रोग में मृत्यु दर 100 प्रतिशत के करीब होती है और इस बुखार का अभी तक कोई इलाज नहीं है. इसके संक्रमण को फैलने से रोकने का एकमात्र तरीका जानवरों को मारना है. वहीं जो लोग इस बीमारी से ग्रसित सूअरों के मांस का सेवन करते हैं उनमें तेज बुखार, अवसाद सहित कई गंभीर समस्याएं शुरू हो जाती हैं।

सूअर और सूअर के मांस आयात पर सरकार ने लगाया प्रतिबंध

 इस साल अफ्रीकन स्वाइन फीवर के मामले सामने आने के बाद मिजोरम पहले ही दूसरे राज्यों से सूअर और सूअर के मांस के उत्पादों के आयात पर प्रतिबंध लगा चुका है। पिछले साल इस बीमारी के प्रकोप के कारण कुल मिलाकर 33,417 सूअरों की मौत हो गई थी, जिससे 60.82 करोड़ रुपये का आर्थिक नुकसान हुआ था। पिछले साल मार्च में राज्य में पहली बार इस संक्रामक बीमारी की सूचना मिली थी।

राज्य सरकार को मिली मुआवजे की राशि

इस साल फरवरी से अब तक अफ्रीकी स्वाइन फीवर रोकने के लिए 3,264 सुअरों को मारना पड़ा। किसानों को उनके मारे गए सूअरों के मुआवजे के लिए सरकार को धन मिला है. बता दें कि मिजोरम, त्रिपुरा और सिक्किम में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू के असर के चलते सरकार ने अभी लोगों से सूअर के मांस का सेवन करने से मना किया है.