ये पौधे कर सकते हैं आपके घर की हवा को एक दाम साफ़, इन्हें लगाना एकदम आसान

पांच जून मतलब विश्व पर्यावरण दिवस… इसका मकसद है- लोगों को पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति जागरूक और सचेत करना। प्रकृति बिना मानव जीवन संभव नहीं। इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि हम यह समझें कि हमारे लिए पेड़-पौधे, जंगल, नदियां, झीलें, जमीन, पहाड़ कितने जरूरी हैं। इस दिवस को मनाने का फैसला 1972 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में चर्चा के बाद लिया गया। इसके बाद 5 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया। पर्यावरण दिवस का मकसद लोगों को जागरूक करना भी है. लोगों से पौधे लगाने और उनकी देखभाल करने के लिए अपील की जाती है. तो ऐसे में आइये जानते हैं शुद्ध और ताज़ी हवा देने वाले कुछ  पौधों के बारे में-

सबसे पहले सांप का पौधा’ और ‘सास की जबान. या फिर हम Snake plant भी कहते है,, ये पौधा आपके वातावरण को शुद्द कर सकता है..

स्नेक प्लांट को आजकल घर के अंदर गमले में घर सजाने के लिए उपयोग किया जाता है|

एक शोध में पाया गया है कि इस पौधे में हवा को शुद्ध करने के गुण है| यह पौधा रात को कार्बन डाइऑक्साइड (carbon-dioxide – CO2) हटाता है| यह रात में CO2 को ऑक्सिजन (Oxygen) में बदलता है|

यह आसानी से लगाया जा सकता है क्योंकि इसे बढ़ने के लिए सूर्य की ज़्यादा रोशनी नहीं चाहिए होती है|

इसकी देखभाल करना भी आसान है क्योंकि यह कम पानी में भी लग जाता है|

सर्दियों में अगर इसे महीने में एक या दो बार भी पानी दिया जाए तो भी ये सुखता नहीं है|

यह ज़्यादा पानी डालने से गल भी जाता है|

यह पौधा प्रदूषित हवा को शुद्ध करता है| इसे आप अपने बेडरूम में भी लगा सकते हैं जिससे आपको शुद्ध हवा मिलेगी| यह पौधा रात को ऑक्सिजन (Oxygen) छोड़ता है|

एलोवेरा
एलोवेरा को घृतकुमारी भी कहते हैं. एलोवेरा की पत्तियां गूदेदार होती हैं. इस पौधे में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं. इनडोर प्लांट के लिए एलोवेरा एक बेहतरीन ऑप्शन है. दरअसल, इस पौधे को बढ़ने के लिए बहुत ज़्यादा पानी और सूर्य की रौशनी की आवश्यकता नहीं होती है. यह पौधा हवा में मौजूद अशुद्धियों जैसे फार्मल्डिहाइड (मेथेनैल), बेंजीन और कार्बन मोनो ऑक्साइड को दूर करता है. इसके गूदे का इस्तेमाल सौंदर्य प्रसाधनों (मेकअप प्रोडक्ट्स) के रूप में भी किया जाता है.

स्पाइडर प्लांट- स्पाइडर प्लांट भी एक ऐसा पौधा है जो एयर प्यूरीफायर की तरह काम करता है. ये प्लांट हवा से जाइलीन, बेंजीन, फार्मल्डिहाइड और कार्बन मोनो ऑक्साइड जैसे हानिकारक तत्वों को फिल्टर करता है. सबसे अच्छी बात है कि इस पौधे की देखभाल में ज़्यादा मेहनत की जरूरत भी नहीं होती है. इसलिए वर्किंग लोग भी इसे बड़े आराम से मैनेज कर सकते हैं.

वैसे हर वर्ष एक थीम रखकर उस पर काम किया जाता है. इस साल के पर्यावरण दिवस का थीम है – ‘टाइम फॉर नेचर’ यानी प्रकृति के लिए समय. इसका उद्देश्य पृथ्वी पर जीवन के लिए जैव विविधताओं के महत्व पर ध्यान केंद्रित करना है. पर्यावरण में कई चीजें आती हैं जैसे जैव विविधता, पेड़-पौधे. पर्यावरण में सुधार करने के लिए हमारी एक छोटी सी पहल भी बड़ी भूमिका निभा सकती है.  तो आइये आप भी पौधे लगाइए और इस पहल का हिस्सा बनिए.