अल कायदा सरगना अयमान अल जवाहिरी ड्रोन हमले में मारा गया

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में अमेरिका के आतंकविरोधी अभियान में अल-कायदा नेता अयमान अल-जवाहिरी के मारे जाने की पुष्टि की गयी है। राष्ट्रपति जो बिडेन ने मंगलवार को इसकी पुष्टि की। साल 2011 में ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद अल कायदा को यह अब तक का सबसे बड़ा झटका लगा है। अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक जवाहिरी को अफगानिस्तान में सीआईए के ड्रोन ने मार गिराया। कई मीडिया रिपोर्टों में भी यह बात सामने आई है कि अफगानिस्तान में सप्ताहांत अमेरिकी स्ट्राइक में अल-कायदा के प्रमुख नेता अयमान अल जवाहिरी की मौत हो गई है।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने दिया कड़ा संदेश

राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा की “न्याय की जीत हुई। अलकायदा सरगना अयमान अल जवाहिरी काबुल में एक हवाई हमले में मारा गया है। साफ है अगर आप हमारे लोगों के लिए खतरा हैं, तो अमेरिका आपको ढूंढेगा और बाहर निकालेगा, आप चाहे कहीं भी छिप जाएं, चाहे कितना भी समय लगे।”। वर्ष 2011 में ओसामा बिन लादेन की मौत के बाद अल-जवाहिरी ने अल-कायदा पर कब्जा कर लिया। उसने और बिन लादेन ने एक साथ 9/11 के हमलों की साजिश रची और तब से वह अमेरिका के वाछित आतंकवादियों में से एक बन गया।

साल 2001 में 11 सितंबर को अमेरिका पर हुए हवाई हमलों में जवाहिरी ने अहम भूमिका न‍िभाई थी। इन हमलों में अमेरिका के चार नागरिक विमानों को हाइजैक करके उन्‍हें न्‍यू यॉर्क के वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर के ट्विन टावर, वॉशिंगटन के पास रक्षा मंत्रालय पेंटागन और पेंसिलवेनिया में टकराया गया था। इन हमलों में करीब 3 हजार लोग मारे गए थे।

सितंबर 2001 के हमलों के अलावा अल जवाहिरी पर साल 2000 में 12 अक्‍टूबर को यमन में अमेरिकी जहाज यूएसएस कोल पर भी हमले का आरोप है। इसमें अल कायदा के दूसरे वरिष्‍ठ कमांडर शामिल थे। इन हमलों में अमेरिका के 17 नौसैनिक मारे गए थे और 30 अन्‍य घायल हुए थे।

रविवार को किया था ड्रोन हमला

अमेरिका के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर खुलासा किया कि अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने रविवार को अफगानिस्‍तान की राजधानी काबुल पर ड्रोन स्‍ट्राइक की थी। इसी हमले में अयमान अल जवाहिरी मारा गया। यह हमला अफगानिस्‍तान में काउंटर टेररिज्‍म ऑपरेशन के तहत किया गया।

तालिबान ने हमलों की पुष्टि की

तालिबान के प्रवक्‍ता जबीहउल्‍लाह मुजाहिद ने इन हमलों की पुष्टि करते हुए इनकी कड़ी निंदा की है। उन्‍होंन इसे अंतरराष्‍ट्रीय सिद्धांतों का उल्‍लंघन बताया। अफगानिस्‍तान के गृह मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने भी कहा था कि काबुल में रविवार सुबह जोरदार धमाके की आवाज सुनी गई। प्रवक्‍ता अब्‍दुल नफी तकोर ने कहा, ‘शेरपुर में एक मकान पर रॉकेट से हमला किया गया था। चूंकि मकान खाली था इसलिए कोई भी जख्‍मी नहीं हुआ।