झारखंड : तब्लीगी मरकज में शामिल हुआ था सोरेन के मंत्री का बेटा!, किया गया क्वारैंटाइन

तब्लीगी मरकज में शामिल होक पूरे देश में फैलने वालों जमातियो की वजह से प्रशासन के होश उड़े हुए हैं. ऐसा ही कुछ हाल झारखण्ड का भी है. दिल्ली में तब्लीगी जमात के मरकज से झारखंड लौटने वालों की सूची में मधुपुर से झामुमो विधायक व अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के बेटे का भी नाम है। हालांकि, मंत्री व उनके पुत्र दोनों ने ही इस बात से साफ इनकार किया है। मंत्री के बेटे का कहना है कि वे 1993 के बाद कभी दिल्ली गए ही नहीं

जिला प्रशासन मंत्री पुत्र व सूची के दूसरे व्यक्ति मोहम्मद अब्बास का ब्लड सैंपल जांच के लिए रिम्स भेजा दिया है. साथ ही मंत्री हाजी हुसैन अंसारी, उनके बेटे व पूरे परिवार को होम क्वारैंटाइन किया गया है. मंत्री हाजी हुसैन अंसारी अपने बेटे मोहम्मद तनवीरुल हसन के साथ थाने पहुंचकर कहा कि उनके पुत्र का तबलीगी जमात से कोई लेनादेना नहीं है.

वहीँ अब हेमन्त सोरेन के मंत्री का तब्लीगी मरकज से कनेक्शन सामने आने के बाद ये सवाल उठने लगा है कि कहीं हेमंत के मंत्री मंडल तक इस वायरस ने दस्तक तो नही दी! अब इस बात की पड़ताल की जाएगी कि मंत्री साहब और उनके बेटे किन विधायकों और लोगों के सम्पर्क में आये थे.

बुधवार को एक दिन में सबसे अधिक 212 संदिग्ध पकड़े गए और सबसे अधिक सैंपल जांच भी की गई. रिम्स में 70 और एमजीएम जमशेदपुर में 42 संदिग्धों के ब्लड सैंपल की जांच हुई. इनमें 111 की रिपोर्ट निगेटिव है, जबकि एक रिपोर्ट पेंडिंग है. विभिन्न जिलों में पकड़े गए संदिग्धों को क्वारैंटाइन कर दिया गया है. इसमें से अधिकतर लोग दिल्ली की तब्लीगी समाज से जुड़े हुए हैं.