क्या दिल्ली वाले कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर झेलने जा रहे हैं?

क्या दिल्ली में कोरोना के हालत बेकाबू हो रहे हैं??

ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि दिल्ली शुक्रवार को पिछले 24 घंटें में पांच हजार से अधिक केस सामने आये हैं… और ऐसा लगातार तीसरे दिन हुआ है. राष्ट्रीय राजधानी में शुक्रवार को संक्रमण के एक दिन में सर्वाधिक 5,891 नए मामले सामने आने के बाद कुल आंकड़ा 3,81,644 पहुंच गया। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, शुक्रवार को दिल्ली में कुल 5891 कोरोना केस सामने आए। वहीं कुल 47 लोगों की कोरोना के कारण जान गई। इससे पहले गुरुवार को 5739 मामले दर्ज हुए और आज सर्वाधिक 5891 नए केस सामने आए हैं। वहीं बुधवार को दिल्ली में पहली बार पांच हजार से अधिक मामले आए थे और कुल केसों की संख्या 5673 थी। इस तरह से देखा जाए तो लगातार तीन दिनों से दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 5,000 से अधिक नए मरीज सामने आ रहे हैं।

वहीँ विशेषज्ञ कह रहे हैं कि दिल्ली में त्योहारी मौसम, प्रदूषण स्तर में वृद्धि और लोगों द्वारा कोविड-19 नियमों को लेकर बरती जा रही लापरवाही के चलते कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है लेकिन दिल्ली वालों पर सिर्फ कोरोना का हमला नही है बल्कि दिल्ली वाले कोरोना के सार्थ साथ प्रदुषण का भी सामना कर रहे हैं.

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है. वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) के आंकड़ों के मुताबिक शुक्रवार शाम को दिल्ली और आस-पास के इलाकों में प्रदूषण का स्तर अचानक ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंच गया. दिल्ली के अधिकतर इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 300 के पार है, जबकि कई जगहों पर ये गंभीर श्रेणी में है.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के मुताबिक दिल्ली के आनंद विहार में एक्यूआई लेवल 408, बवाना में 447, पटपड़गंज में 404 जबकि वजीरपुर में 411 रिकॉर्ड किया गया. AQI 400 के पार के आंकड़े ‘गंभीर’ श्रेणी में आते हैं.