सेनाओं ने तेज की ​​’तीसरी लहर’ का मुकाबला करने की तैयारी

नई दिल्ली: देश में कोविड संकट के समय भारतीय ​​सशस्त्र बल न केवल ऑक्सीजन और ​​चिकित्सा सामग्री की जरूरतों को पूरा करने में लगे हैं बल्कि ​​उन ग्रामीण क्षेत्रों की भी पहचान की है जिन्हें मौजूदा हालातों में ज्यादा सहायता की आवश्यकता है। इसी के साथ देश की तीनों सेनाओं ने कोविड की संभावित ​​तीसरी लहर से निपटने की तैयारी भी अभी से तेज कर दी है​​​ ​​नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने​ अपनी इकाइयों से ग्रामीण क्षेत्रों को गोद लेने का आह्वान किया है
सेना के सूत्रों का कहना है कि नागरिक प्रशासन की सहायता के लिए अब तक सशस्त्र ​बलों का फोकस प्रमुख शहरों पर रहा है लेकिन अब अगली लहर की तैयारी करने के लिए कमजोर क्षेत्रों यानी भारत के दूरस्थ इलाकों पर ध्यान केन्द्रित किया गया है। क्षेत्र के सिविल अस्पतालों में जरूरत के हिसाब से सेनाएं युद्ध स्तर  की आकस्मिकताओं का उपयोग कर रही हैं।