झारखंड में अजीम प्रेमजी करेंगे 3 हजार करोड़ का निवेश, सरकार ने दी मंजूरी

झारखण्ड वासियो के लिए एक अच्छी खबर है। झारखंड सरकार ने बुधवार को राज्य में प्रस्तावित अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय, रांची की स्थापना के लिए करीब 150 एकड़ भूमि 99 वर्ष की पट्टे पर देने का फैसला किया।  अजीम प्रेमजी फाउंडेशन द्वारा विकसित किया जाने वाली यूनिवर्सिटी, झारखंड में इंटरनेशनल स्तर की शिक्षा प्रदान करेगी.। हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में मिली मंजूरी से राज्य में करीब 3,000 करोड़ रुपये के निवेश की उम्मीद है। विश्वविद्यालय बेंगलुरु और भोपाल की तर्ज में खुलेगा। अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी शिक्षण संस्थान में छात्रों को विश्वस्तरीय शिक्षण सुविधाएं दी जाएंगी। अनुभवी शिक्षकों की रिसर्च बेस्ड पाठ्य सामग्री उपलब्ध होगी।

कौशल विद्या उघमिता से संचालित होंगे राज्य के 8 पॉलिटेक्निक

कौशल विद्या उघमिता, डिजिटल एवं स्किल विश्वविद्यालय खूंटी में बने पॉलिटेक्निक कॉलेज में चलेगा। 2018 में झारखंड में कुल आठ पॉलिटेक्निक कॉलेज बनाए गए थे। ये कॉलेज खूंटी, लोहरदगा, पलामू, चतरा, जामताड़ा, गोड्डा, बगोदर और हजारीबाग में हैं। अब सभी खूंटी में बने पॉलिटेक्निक कॉलेज में शुरू होने स्किल यूनिवर्सिटी के अंतर्गत संचालित होंगे। गुरुवार काे प्रभारी मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कौशल विद्या उघमिता, डिजिटल एवं स्किल विश्वविद्यालय 2022 पेश किया जाे पारित हाे गया।

संभावनाओं से भरा प्रदेश

अजीम प्रेमजी फाउंडेशन झारखंड में यूनिवर्सिटी, स्वास्थ्य के लिए स्टेट ऑफ द आर्ट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल और आईटी पार्क की स्थापना के लिए पूरी तरह तैयार है. इस पर सीएम सोरेन ने कहा था कि झारखंड संभावनाओं से भरा प्रदेश है. अजीम प्रेमजी फाउंडेशन और विप्रो राज्य सरकार के साथ मिलकर काम करेगी तो निश्चित रूप से झारखंड को कई क्षेत्रों को फायदा मिलेगा. 

झारखंड में विश्वविद्यालय खोलने की है योजना

 फाउंडेशन द्वारा झारखंड में एक विश्वविद्यालय खोलने की मंशा जाहिर की गई. मुख्यमंत्री को बेहार ने बताया कि इस विश्वविद्यालय को स्थापित करने पर लगभग 1200 से 1400 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे. विश्वविद्यालय का कैंपस लगभग 150 एकड़ जमीन में फैला होगा. यहां विद्यार्थियों को रोजगार परक और गुणवत्ता युक्त शिक्षा दी जाएगी. पिछले दिनों मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के साथ विप्रो कंपनी के अजीम प्रेमजी की ऑनलाइन बातचीत के दौरान जिन विषयों पर चर्चा हुई थी, उसी कड़ी में यहां विश्वविद्यालय खोलने की मंशा फाउंडेशन के द्वारा जताई गई है.

प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा की बेहतरी में भी करेंगे योगदान

मुख्यमंत्री से फाउंडेशन के सीईओ ने कहा कि प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा को बेहतर बनाने में फाउंडेशन सहयोग करेगी। सरकार के द्वारा जिन विद्यालयों को आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित किया जा रहा है, वहां की जरूरतों को पूरा करने में फाउंडेशन हर संभव मदद करेगी ।