इन राज्यों में दीपावली में नही फूटेंगे पटाखे, कानून तोड़ा तो भरना होगा जुर्माना

भारत के चार राज्य इस बार दीपावली के मौके पर पटाखे न तो खरीद पायेंगे ना बेच पायेंगे और ना ही वे पटाखे फोड़ पायेंगे.. दरअसल बढ़ते वायु प्रदुषण को लेकर ये आशंका जताई गयी है कि पटाखे फोड़े जाने के बाद प्रदुषण में और इजाफा होगा और फिर स्थिति भयावह हो सकती है.. इसी के चलते राजस्थान, दिल्ली (Delhi), ओडिशा और पश्चिम बंगाल में पटाखे बैन हो चुके हैं. दिल्ली सरकार ने तो किसी भी तरह के पटाखे जलाने पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी है.

पटाखे ना जलाने को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल यानि की NGT भी एक याचिका पर सुनवाई कर रहा है.. सभी राज्यों से पक्ष मांगे गये हैं.. चार राज्य तो पहले से ही पटाखा बैन कर चुके हैं जहाँ प्रदुषण का स्तर ज्यादा है… वहीँ कम प्रदुषण वाले राज्यों को भी NGT ने नोटिस जारी करते हुए जवाब देने के लिए कहा.. जिसपर 6 नवंबर को सुनवाई होने वाली है.

मंगलवार को एनजीटी ने याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली, यूपी, राजस्थान और हरियाणा को अगली सुनवाई के लिए नोटिस जारी किए थे. लेकिन अब इस सुनवाई में 14 और राज्य शामिल किए हैं जहां हवा की गुणवत्ता कमतर है. यह राज्य हैं, आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसढ़, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मेघालय, नगालैंड, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल.. हालांकि और कितने राज्यों में पटाखे फोड़ने पर पाबंदी लगाई जाएगी या फिर कम प्रदुषण वाले पटाखों को फोड़ने की अनुमति दी जायेगी.. आज शाम तक स्पष्ट हो सकता है..

वहीँ अब पटाखा कारोबार से जुड़े लोगों ने NGT के सामने अपना पक्ष रखने की कोशिश की.. उनका कहना था कि पटाखा कम्पनियों से 10 हजार से अधिक लोग जुड़े हुए हैं..  वे सभी बेजरोजगार हो जायेंगे उनका कारोबार बर्बाद हो जायेगा लेकिन इस पर एनजीटी ने कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि हम जीवन का जश्न मना सकते हैं मौत का नहीं.

आपको बता दें कि दीपावली से पहले ही दिल्ली समेत कई शहरों की हवा इतनी जहरीली हो चुकी है जो आपके सेहत को गम्भीर नुकसान पहुंचा सकती है. दिल्ली में तो AQI सारे रिकॉर्ड तोड़ रहा है.. दिल्ली से सटे नॉएडा गुरुग्राम फरीदाबाद में भी वायु प्रदुषण चरम पर है. हवा पहले ही जहरीली है.. सिर्फ जहरीली नही बल्कि बेहद खराब स्तर में पहुँच चुकी है.. इसी के मद्देनजर रखते हुए दीपावली पर पटाखे ना जलाये. प्रदुषण और ना फैले इसको लेकर पटाखों पर बैन लगाने की कवायद शुरू की जा रही है.