चीन से आने वाला है नया संकट? इंसान में पहली बार मिला H3N8 बर्ड फ्लू, 4 साल का बच्चा हुआ संक्रमित

निया भर में कोरोना वायरस का कहर अभी थमा नहीं था कि चीन से एक नया संकट आने से दुनिया में हड़कंप मच गया है।  चीन के हेनान प्रांत में बर्ड फ्लू के H3N8 (H3N8 Bird Flu) स्ट्रेन से मानव के संक्रमित होने का पहला मामला मिला है। मंगलवार को मीडिया रिपोर्ट से ये सूचना मिली। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) की ओर से जारी एक बयान में इस मामले की घोषणा की गई।

विश्वभर में कोरोना वायरस का कहर अभी थमा नहीं था कि चीन के हेनान प्रांत में बर्ड फ्लू के एच3एन8 (H3N8 Bird Flu) स्ट्रेन से मानव के संक्रमित होने का पहला मामला मिला है. चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के अनुसार इससे संक्रमण का लोगों में फैलने का जोखिम कम है।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने क्या कहा,

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि जिस बच्चे में बर्ड फ्लू के H3N8 स्ट्रेन मिला है। उसे बुखार सहित कई अन्य लक्षण मिले। बताया जा रहा है की जब चार वर्षीय लड़के की स्वास्थ्य जांच की गई तो वह वायरस से संक्रमित पाया गया। बच्चे का कोई भी करीबी वायरस से संक्रमित नहीं था। इसमें कहा गया है कि बच्चा अपने घर में पाले गए मुर्गियों और कौवे के संपर्क में आने से संक्रमित हुआ है।  राहत की बात ये है कि उसके संपर्क में आया कोई भी इंसान इस वायरस की चपेट में नहीं आया था।

महामारी का जोखिम कम

स्वास्थ्य आयोग ने कहा कि H3N8 संस्करण पहले दुनिया में घोड़ों, कुत्तों, पक्षियों में पाया गया है. हालांकि, एच3एन8 का कोई मानव मामला सामने नहीं आया है. यानी ये दुनिया का पहला मानव मामला है।  वैरिएंट में अभी तक मनुष्यों को प्रभावी ढंग से संक्रमित करने की क्षमता नहीं थी. ऐसे में बड़े पैमाने पर महामारी का जोखिम कम है।

इनमें पहले ही पाया जा चुका है यह संक्रमण

स्वास्थ्य आयोग ने कहा कि H3N8 घोड़ों, कुत्तों एवं पक्षियों में पहले ही पाया जा चुका है. उन्होंने कहा कि H3N8 से किसी इंसान के संक्रमित होने का ये पहला केस है. एक प्रारंभिक मूल्यांकन ने निर्धारित किया कि संस्करण में अभी तक मनुष्यों को प्रभावी ढंग से संक्रमित करने की क्षमता नहीं है तथा बड़े पैमाने पर महामारी का जोखिम कम है.

बर्ड फ्लू क्या है और इसके लक्षण क्या हैं?

बर्ड फ्लू बीमारी में सर्दी, जुकाम, खांसी, मांसपेशियों में दर्द होना, सांस फूलना, सिर दर्द ठंड के साथ बुखार आना आदि लक्षण होते हैं. ये बीमारी आमतौर पर बीमार पक्षी के संपर्क में आने से फैलता है. इसके लक्षण सामने आने में लगभग 2 से आठ दिन का वक्त लग जाता है.