जन्मदिन विशेष : अटल जी के वो बड़े फैसले जो हमेशा किये जायेंगे याद!

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी का जन्म 25 दिसंबर को हुआ था.  भाजपा को पालने पोषने से लेकर बड़ा संगठन बनने वाले अटल जी का 95 जयन्ती मनाई जा रही है. अटल जी ऐसे नेता थे जिनका हर कोई कायल था… उनके कई फैसले आज भी याद किये जाते हैं क्योंकि अटल जी के कई फैसले मील का पत्थर साबित हुए.. ऐसे में आइये पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के कुछ बड़े फैसलों पर एक नजर डालते हैं.

  • भारत में संचार क्रांति (Telecom Revolution) का जनक भले राजीव गांधी को माना जाता हो लेकिन उसे आम लोगों तक पहुंचाने का काम जिसने किया उनका नाम अटल बिहारी वाजपेयी था. साल 1999 में वाजपेयी जी ने बीएसएनएल के एकाधिकार को ख़त्म करते हुए नई टेलिकॉम नीति लागू कर दी। नई टेलीकॉम नीति लागू होने के बाद से ही लोगों को सस्ती दरों में फोन करने की सुविधा प्राप्त हुई थी.
  • देश को एक सूत्र में पिरोने के लिए सड़कों का जाल बिछाने का अहम फैसला अटल जी ने लिया था, जिसे स्वर्णिम चतुर्भुज सड़क परियोजना नाम दिया गया था।उन्होंने चेन्नई, कोलकाता, दिल्ली और मुंबई को जोड़ने के लिए स्वर्णिम चतुर्भुज सड़क परियोजना लागू की.. जिसका फायदा आज पूरा देश ले रहा है.
  • सर्व शिक्षा अभियान वाजपेयी के कार्यकाल में ही शुरू किया गया था।इस अभियान में 6 से 14 साल के बच्चों को मुफ़्त शिक्षा देने का ऐलान किया गया था. .. इसका लाभ आज भी ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को मिल रहा है.
  • पाकिस्तान के साथ रिश्तों को सुधारने को लेकर भी अटल जी ने कई प्रयास किये. 1999 में उन्होंने दिल्ली-लाहौर बस सेवा की शुरूआत हुई थी। पहली बस सेवा से वाजपेयी खुद लाहौर गए और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के साथ मिलकर लाहौर दस्तावेज पर हस्ताक्षर किये..

 

  • कहा तो ऐसा भी जाता है कि अटल जी के प्रधानमंत्री कार्यकाल के दौरान ही निजीकरण को बढ़ावा दिया गया था. जिसमें कई सरकारी कम्पनियों को बेचा गया था. भारत एल्यूमिनियम कंपनी (बाल्को), हिंदुस्तान ज़िंक, इंडियन पेट्रोकेमिकल्स कॉर्पोरेशन लिमिटेड और विदेश संचार निगम लिमिटेड जैसी कम्पनियों को बेचने की प्रक्रिया अटल जी के नेतुत्व में ही हुई थी.
  • साल 2001 में जब संसद पर हमला हुआ था उस वक्त प्रधानमंत्री अटल जी थे.. इस हमले के बाद वाजपेयी सरकार ने पोटा क़ानून बनाया, ये बेहद सख़्त आतंकवाद निरोधी क़ानून था, जिसे 1995 के टाडा क़ानून के मुक़ाबले बेहद कड़ा माना गया था।
  • साल 1999 में एच डी देवगौड़ा की सरकार ने जातिवार जनगणना कराने की मंजूरी थी लेकिन अटल जी सरकार आने पर साल 2001 में जनगणना होने से पहले ही इस मंजूरी को निरस्त कर दिया था.. जिसके बाद जातिवार जनगणना नही हो पायी थी.
  • भारत के पहले चंद्रयान मिशन की घोषणा भी अटल जी ने ही की थी.. लालकिले से दिए गये अपने भाषण में उन्होंने इसकी घोषणा की थी और साल 2008 में भारत का पहला चंद्रयान लांच किया गया था.
  • अटल जी का मानना था कि देश की सुरक्षा सर्वोपरी है इसी के तहत अटल जी के ही कार्यकाल में भारत ने सफल परमाणु परीक्षण किया था. मई 1998 में भारत ने पोखरण में परमाणु परीक्षण किया था। ये 1974 के बाद भारत का पहला परमाणु परीक्षण था। इसके बाद भारत की धमक पूरी दुनिया में बढ़ गयी थी.

सिर्फ फैसले ही नही बल्कि अटल ही के कई भाषण, कथन, गीत और बयान आज भी लोगों के मन को मोह लेते हैं… पर्यावरण पोस्ट अटल जी की जयंती पर उन्हें नमन करता है.