तुष्टिकरण की राजनीति कर रही है हेमन्त सरकार, विधानसभा में बने हनुमान मंदिर- राकेश भास्कर

झारखंड विधानसभा परिसर में नमाज पढ़ने के लिए कमरा आवंटित किए जाने का मामला तूल पकड़ चुका है. एक तरफ बीजेपी विरोध कर रही है तो वहीँ दूसरी तरफ विधानसभा स्पीकर रवीन्द्र नाथ महतो इस फैसले को सही ठीक ठहरा रहे हैं. इस पर झारखंड भारतीय जनता पार्टी के नेता राकेश भास्कर ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि ये फैसला असंवैधानिक है.

    राकेश भास्कर ने कहा कि झारखंड के मुख्यमंत्री आदिवासी समुदाय से आते हैं और झारखंड में आदिवासी और हिन्दू बड़े पैमाने पर रहते हैं. अगर झारखंड सरकार की ये नीति तुष्टिकरण वाली नही होती तो पहले हनुमान जी का पाठ करने के लिए व्यवस्था की जाती. उसके बाद नमाज अदा करने की जगह देते क्योंकि हिन्दुओं और आदिवासियों की संख्या बहुतायत है. हेमन्त सोरेन सरकार को जनाधार हिन्दू मुसलमान करने के लिए नही मिला था.”

यह भी पढ़ें- दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Narendra Modi, बाइडेन और जॉनसन को भी पीछे छोड़ा 

दरअसल झारखंड में विधानसभा स्पीकर रवीन्द्र नाथ महतो के नमाज वाले फैसले का बीजेपी जबरदस्त विरोध कर रही है. भाजपा का कहना है कि यदि विधानसभा अध्यक्ष रवीन्द्र नाथ महतो को ऐसा करना ही था तो उन्हें हिन्दुओं के लिए विधानसभा में एक भव्य ‘हनुमान मंदिर’ का निर्माण कराना चाहिए. पार्टी ने कहा कि अन्य धर्मावलंबियों के लिए भी पूजा अथवा आराधना कक्ष अवश्य निर्धारित किये जाने चाहिए अन्यथा लोकतंत्र के मंदिर को लोकतंत्र का मंदिर ही बने रहने देना चाहिए.

यह भी पढ़ें- Jharkhand Weather Update: गर्मी बढ़ने के आसार, आज मॉनसून रहेगा कमजोर!

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास ने कहा, ‘‘हेमंत सोरेन सरकार में शामिल विधायक खुलेआम तालिबान का समर्थन करते हैं. राज्य विधानसभा में नमाज के लिए अलग कमरा इसी विचारधारा का नतीजा है. वरना भारतीय लोकतंत्र में विश्वास रखने वाला कोई भी व्यक्ति ऐसी हरकत नहीं करता