तेलंगाना में 2024 में भाजपा दर्ज करेगी जीत: अमित शाह

  • कहा- सत्ता में आते ही ‘हैदराबाद मुक्ति दिवस’ को आधिकारिक रूप से मनाएगी भाजपा

हैदराबाद: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को ‘तेलंगाना मुक्ति दिवस’ पर निर्मल जिले का दौरा किया। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि भाजपा तुष्टिकरण की राजनीति नहीं करती है। उन्होंने दावा किया कि तेलंगाना में वर्ष 2024 में भाजपा जीत दर्ज करेगी।

हैदराबाद मुक्ति दिवस पर निर्मल जिले में एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने तेलंगाना और मराठवाड़ा क्षेत्र के लोगों को बधाई दी। गृह मंत्री ने कहा कि देश हमेशा उन लोगों का ऋणी रहेगा, जिन्होंने देश की एकता के लिए अपने प्राण न्योछावर किए। कर्नाटक और मराठवाड़ा में आज मुक्त दिवस मनाया जा रहा है।

देश को 15 अगस्त, 1947 को स्वतंत्रता मिली, किंतु हैदराबाद की तत्कालीन रियासत (निजाम शासन के अंतर्गत) का 17 सितंबर, 1948 को भारतीय संघ में विलय हुआ था। इसी को लेकर मुक्त दिवस मनाया गया। गृह मंत्री ने कहा, ”आज के दिन ही पूरे देश को आजादी मिलने के 13 महीने बाद तेलंगाना को आजादी मिली थी। भाजपा ने निर्णय किया है कि 2024 में तेलंगाना में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने पर हम 17 सितम्बर को राज्य के अधिकृत कार्यक्रम कर हैदराबाद विमोचन दिन को धूमधाम से मनाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि जो डरते हैं वो डरें, भाजपा मजलिस वालों से नहीं डरती। हम न डरते हैं और न ही तुष्टिकरण की राजनीति नहीं करते हैं।”

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि 17 सितंबर, 1948 को तत्कालीन गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की सैनिक कार्रवाई के बाद तत्कालीन हैदराबाद राज्य का भारतीय संघ में विलय हुआ था। उन्होंने कहा कि निजाम और रजाकारों के विरुद्ध लड़ने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान की याद में यह बैठक हो रही है। दरअसल, निर्मल शहर अंग्रेजों और निजाम से लड़ते हुए एक हजार लोगों की शहादत का गवाह रहा है। शाह ने कहा, ”आज तेलंगाना के लोगों के हित में प्रजा संग्राम यात्रा शुरू की गई है। ये यात्रा पांच चरणों में चलेगी। हर चरण 50-60 दिन का होगा। जब यात्रा पांचों चरण पूरा करके वापस आएगी, तो मुझे विश्वास है कि 2024 में भाजपा सरकार की नींव डालकर वापस आएगी।”

वहीं, तेलंगाना की के. चंद्रशेखर राव सरकार पर निशाना साधते हुए गृह मंत्री ने कहा कि राज्य में धर्म के आधार पर आरक्षण दिया गया है, जबकि आरक्षण धर्म के आधार पर कभी नहीं होना चाहिए। ये भाजपा की नीति है, हम धर्म के आधार पर दिए गए आरक्षण का विरोध करते हैं। ये संविधान सम्मत नहीं है, इसे तुरंत निरस्त किया जाना चाहिए। इससे पहले पर्यटन मंत्री किशन रेड्डी ने चंद्रशेखर राव की सरकार की खूब खिंचाई की। उन्होंने कहा कि जनता ने ऐसा मुख्यमंत्री चाहा जो सचिवालय आएंगे, लेकिन वर्तमान के मुख्यमंत्री कभी सचिवालय ही नहीं गए। साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री पर आरोप लगाया कि वे परिवारवाद को बढ़ावा दे रहे हैं।

किशन रेड्डी ने कहा कि जब सारा देश स्वतंत्रता दिवस मना रहा था, तब हैदराबाद की जनता को रजाकर के उत्पीड़न का सामना करना पड़ा। उन्होंने आरोप लगाए कि मुक्ति दिवस आधिकारिक रूप से मानने को सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति तैयार नहीं है क्योंकि वे हैदराबाद के पुराने शहर की मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन पार्टी के इशारे पर अपनी राजनीति का अंजाम दे रही है। किशन रेड्डी ने आश्वासन दिया कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार सत्ता में आते ही हैदराबाद मुक्ति दिवस को आधिकारिक रूप से मनाएगी।