चार रुपये में गोमूत्र और सात रुपये में गोबर की हो खरीद : जितेन्द्र पाण्डेय

लखनऊ: विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय गोरक्षा आंदोलन समिति में क्षेत्र संयोजक जितेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि उत्तर प्रदेश सहित देश में गोमूत्र की कीमत चार रुपया और गोबर की कीमत सात रुपया पर खरीद होनी चाहिये। उन्होंने कहा कि गोमूत्र और गोबर के आधार पर बनी खाद्य से कृषि सुधार और अन्य दैनिक उपयोगी चीजों का निर्माण होना चाहिये। रातों रात सड़क पर घूमने वाली गोमाता घरों के अंदर बंध जायेगी और हमारा देश खाद्य व गैस की कठनाईयों से दूर हो जायेगी। देश पुन: सोने की चिड़िया बन जायेगी, अवैध व वैध बूचड़खाने बंद हो जायेंगे।

 

उन्होंने कहा कि जिले में वीडीओ, सीडीओ और पशु चिकित्सा अधिकारी सहित प्रदेश मुख्यालय में बैठे सचिव तक का गोरखधंधा भी इस प्रक्रिया को अपनाने से बंद हो जायेगा।
उन्होंने कहा कि समाज में सौ प्रतिशत ऊर्जा व्यय होने के बावजूद दस प्रतिशत कार्य भी होता हुआ नहीं दिख रहा है। इससे गोरक्षा आंदोलन समिति के कार्यकर्ताओं का मनोबल कमजोर हुआ है।

 

आर्थिक अभाव के कारण कार्यकर्ता स्वयं के प्रयास से ही कुछ न कुछ कर पा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि रोजाना गोमाता की रक्षा के नाम पर करोड़ो का खर्च करने से अच्छा है कि समाज के माध्यम से सरकारी धन को खर्च कर गोमूत्र और गोबर से विकास कार्य हो। उत्तर प्रदेश में गोरक्षा के लिए सक्रिय भूमिका निभा रहे युवाओं को एक बार फिर से आगे बढ़कर युद्ध स्थिति में आना होगा।