झारखंड विधानसभा में प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक सभा का आयोजन

रांची: भारत के पूर्व राष्ट्रपति स्व० प्रणब मुखर्जी के निधन पर झारखंड विधानसभा में शोक सभा का आयोजन किया गया। झारखंड विधानसभा के अध्यक्ष  रविन्द्र नाथ महतो ने शोक सभा को संबोधित करते हुए कहा, प्रणब दा का देहांत  दिल्ली में हुआ, वे कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनका देहावसान भारतीय राजनीति में एक युग का अंत है। प्रणव दा उन गिने-चुने राजनीतिज्ञों में थे जिनका तमाम वैचारिक मतभेद के बावजूद सभी राजनीतिक दलों के नेताओं से मधुर संबंध रहे। वे राजनीति के परस्पर विरोधी दलों के बीच हमेशा एक पुल का कार्य किया करते थे। भारत के वित्त मंत्री विदेश मंत्री जैसे महत्वपूर्ण दायित्वों को बखूबी निभाये। महतो ने कहा कि भारतीय गणराज्य की प्रथम नागरिक के रूप में उन्होंने जनमानस पर जो अपनी छाप छोड़ी है उसे भुलाया नहीं जा सकता।देश के प्रति उनका योगदान एवं उपलब्धियां अनुकरणीय है।उनकी निधन से हुई रिक्तता को पाटा नहीं जा सकता है। शोक सभा में दो मिनट का मौन रखकर दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गई। शोक सभा में विधानसभा के सचिव महेंद्र प्रसाद एवं विधानसभा के वरीय पदाधिकारी एवं कर्मी परस्पर सामाजिक दूरी को बनाते हुए उपस्थित थे।