मेडिकल कॉलेज में दूषित पानी की सप्लाई, 50 से अधिक बच्चे हुए बीमार

गुजरात के  कच्छ के भुज में जीके जनरल अस्पताल में में दूषित पानी सप्लाई किये जाने के बाद लगभग 50 बच्चे बीमार हो गये हैं. कुछ बच्चों की हालत इतनी खराब हो गयी है कि उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा है. दूषित पानी मिलने की शिकायत को लेकर छात्रों के ट्वीट करने के बाद मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों ने मामले को गंभीरता से लेते हुए यहां पीने के लिए टैंकर के जरिए पानी पहुंचाना शुरू किया है.

मेडिकल कॉलेज के छात्रों ने जब इसकी शिकायत की, वीडियो बनाकर ट्वीटर पर डाला तब जाकर कॉलेज के अधिकारीयों ने मामले कि संज्ञान में लिया और कहा कि नर्मदा जल और बोरवेल के मिक्स पानी को हॉस्टल के ओवरहेड टैंक से दिया जा रहा है. पिछले कुछ दिनों से हॉस्टल के लिए पानी कम पड़ रहा था. जिस वजह से बोरवेल के जरिए पानी निकाल कर छात्रों के हॉस्टल में दिया जा रहा था. छात्रों की शिकायत मिलने के बाद उसे हॉस्टल प्रशासन के जरिए गंभीरता से लिया गया है, साथ ही दूषित जल का डिस्ट्रीब्यूशन बंद कर दिया गया है. फिलहाल हॉस्टल में पानी टैंकर के जरिए दिया जा रहा हैं.

आपको बता दें कि इस मेडिकल कॉलेज और अस्पताल को अदानी ग्रुप द्वारा चलाया जा रहा है.  अडानी के अस्पताल की ओर से चीफ मेडिकल सुप्रिटेंडेंट डॉक्टर नरेन्द्र हीरानी का कहना है कि अच्छी बात ये है कि, दूषित पानी से किसी को फूड पॉइजनिंग नहीं हुई है, कुछ छात्रों को फ्लू का असर है. उन्हें ट्रीटमेंट दिया जा रहा है.