देश के इन 22 जिलों में बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले, अभी खतरा टला नही है

भारत में अब कोरोना वायरस के दैनिक मामले घटने लगे हैं. इस बीच लोगों की लापरवाहियां भी सामने आ रही है . देश में कुछ जगह ऐसी भी हैं जहाँ पर लगातार कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि कुछ जिलों में नए मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है. जिन 22 जिलों में कोरोना के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है, उनमें 7 जिले अकेले केरल से हैं.

महाराष्ट्र में शोलापुर जिले में भी वृद्धि देखी जा रही है. पूर्वोत्तर के राज्यों मणिपुर (5 जिले) और मेघालय (3 जिले) में कुछ जिलों में नए मामलों में ऊपर की ओर वृद्धि दिख रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने गिरावट की दर घटने पर चिंता जताते हुए कहा कि गिरावट की दर घट रही है और यह चिंता का विषय है. मंत्रालय ने कहा कि 62 जिलों में रोजाना 100 से ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं. कोरोना के अधिकांश मामले अब भारत के तटीय क्षेत्रों में केंद्रित हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि अभी देशभर में 3.9 लाख एक्टिव केस हैं. भारत में रिकवरी रेट 97.4% तक पहुंच गया है. मंत्रालय की ओर से कहा गया कि गृह मंत्रालय ने पॉजिटिविटी रेट के उच्च मामले में रोकथाम उपायों को सुनिश्चित करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं.नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल ने कहा कि वायरस के व्यवहार को हल्के में नहीं लिया जा सकता. वैक्सीन लगाने वालों की संख्या में वृद्धि के बावजूद अभी भी चिंता का विषय है क्योंकि बड़ी संख्या में लोग अभी भी असुरक्षित हैं.

वहीँ नीति आयोग की तरफ से कहा गया है कि कोरोना के मामले भले ही कम हो गये हैं लेकिन खतरा अभी टला नही है, वायरस भी गया नही है. स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि वैश्विक नजरिए से देखें तो महामारी अभी खत्म नहीं हुई है. दुनियाभर में मामलों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, जो चिंता का विषय बना हुआ है. हमें सख्ती के साथ वायरस के प्रसार को रोकने पर काम करना होगा.