Corona Update: भारत में आंकड़े 10 लाख के पार, एक दिन में आए करीब 35 हजार केस

दुनियाभर में अमेरिका और ब्राजील के बाद कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित देश भारत है. भारत में लगातार कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. देश में अब हर रोज 30 हजार से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं. इसी के साथ देश में कोरोना मरीजों की संख्या 10 लाख के पार पहुंच गई है. हालांकि,थोड़ी राहत देने वाली बात ये है कि देश में कोरोना रिकवरी रेट में भी लगातार सुधार देखने को मिला है. यहां कोरोना रिकवरी रेट 63.25% है.

Coronavirus India update: State-wise total number of confirmed ...

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा अपडेट के मुताबिक, बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के सबसे ज्यादा 34 हजार 956 नए मामले सामने आए हैं और इस दौरान 687 लोगों की मौत हो गई है. इसके साथ ही अब देश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 लाख 3 हजार 832 हो गई है. जिनमें से 25 हजार 602 लोगों की मृत्यु हो गई है. वही, 6 लाख 35 हजार 757 लोग ठीक हो चुके है. जबकि 3 लाख 42 हजार 473 एक्टिव केस अभी भी बने हुए है.

देश में सबसे ज्यादा एक्टिव केस महाराष्ट्र में हैं. इसके बाद दूसरे नंबर पर तमिलनाडु, तीसरे नंबर पर दिल्ली, चौथे नंबर पर गुजरात और पांचवे नंबर पर पश्चिम बंगाल है. देश के इन पांच राज्यों में सबसे ज्यादा एक्टिव केस बने हुए हैं.

हालांकि, राजधानी दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच, कोरोना मरीजों के रिकवरी रेट में भी सुधार नजर आया है. दिल्ली में कोरोना वायरस के अब तक 82.34 फीसदी मरीज ठीक हो चुके हैं.

अगर बात झारखंड राज्य की करें तो यहां कोरोना के कुल संक्रमितों का आंकड़ा 4 हजार 624 पहुंच गया है. जिनमें से 42 लोगों की मौत हो चुकी है. जबकि 2 हजार 513 लोग ठीक हो चुके है.

वहीं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि देश में कोविड-19 संक्रमण के ज्यादातर मामले मामूली लक्षण वाले हैं. मात्र 0.32% मरीज वेंटिलेटर पर हैं और 3% से भी कम मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत है.

यहां आपको ये भी बता दें कि अमेरिका में कोरोना ने तबाही मचा रखी है. यहां बीते 24 घंटों में 68 हजार 428 नए केस सामने आए है और 974 लोगों की मौत हो गई है. पूरी दुनिया में कोरोना के  1 करोड़ 37 लाख 58 हजार 533 मामले सामने आ चुके हैं और करीब 6 लाख लोग इस महामारी से अपनी जान गंवा चुके हैं. हालांकि रिकवरी रेट में लगातार सुधार देखने को मिल रहा है.