Corona Update: भारत में अबतक 74 हजार के करीब मौतें, बीते 24 घंटे में फिर आए 90 हजार के करीब नए मामले

कोरोना का संक्रमण सबसे तेजी से भारत में फैल रहा है. आलम ये है कि यहां हर रोज अमेरिका से भी दोगुने-तीनगुने कोरोना के नए मामले सामने आ रहे है. हालांकि दुनिया भर में अभी संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले अमेरिका में है. लेकिन अगर यही हालात रहे तो वो दिन दुर नहीं जब भारत दुनिया भर में कोरोना संक्रमण में पहले पायदान पर होगा. बीते 24 घंटें में भारत में कोरोना के 90 हजार के करीब नए मामले सामने आए है. इससे पहले देश में 7 सितंबर को रिकॉर्ड 90 हजार 802 संक्रमण के नए मामले सामने आए थे.

coronavirus live updates in india: कोरोना वायरस लाइव अपडेट्स - WHO ने माना,  खारिज नहीं कर सकते कोरोना के हवा से फैलने की संभावना

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा अपडेट के मुताबिक, देश में पिछले 24 घंटें में 89 हजार 706 कोरोना के नए मामले दर्ज किए गए है और 1 हजार 115 लोगों की मौत हो गई है. देश में 2 सितंबर से लगातार हर रोज एक हजार से ज्यादा लोगों की मौते हो रही है. इसी के साथ मरने वालों की कुल संख्या 73 हजार 890 लोगों की मौत हो चुकी है. देश में अब कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 43 लाख 70 हजार हो गई है, वही 8 लाख 97 हजार सक्रिय मामले अभी भी बने हुए है. हालांकि राहत की बात ये है कि 33 लाख 98 हजार लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके है.

Mumbai Delhi Coronavirus News | Coronavirus Outbreak India Cases LIVE  Updates; Maharashtra Pune Madhya Pradesh Indore Rajasthan Uttar Pradesh  Haryana Punjab Bihar Novel Corona (COVID-19) Death Toll India Today | 24  घंटे

ऐसे में अगर इन आंकड़ो को देखे तो पता लगता है कि कोरोना संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या करीब साढ़े 3 गुना अधिक है, जो की कोरोना काल में दिल को सुकुन देने वाली खबर है.
वही एक अच्छी बात ये भी है कि देश में कोरोना से मृत्यु की दर दुनिया के औसत से कम है और इसमें लगातार गिरावट आ गई है.

देश में मृत्यु दर गिरकर अब करीब 1.69 फिसदी हो गई है. इसके साथ ही एक्टिव केस रेट में भी लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. एक्टिव केस जिनका इलाज चल है उनकी दर घटकर 21 फिसदी हो गई है. वही रिकवरी रेट यानी ठीक होने वालों की दर भी लगातार सुधर रही है और देश में रिकवरी रेट 78% तक पहुंच गई है. देश में रिकवरी रेट लगातार बढ़ रहा है.