कोरोना को लेकर हेमंत सरकार का फैसला, 14 अप्रैल तक बंद रहेंगे मॉल, सिनेमा, स्कूल…

कोरोना वायरस को लेकर सभी राज्यों में सतर्कता बरती जा रही है. स्कूल, कालेज, सिनेमा हॉल, मॉल जैसी तमाम स्थानों को बंद करने का फैसला लिया जा रहा है. ऐसे में बीजेपी मांग कर रही थी कि हेमन्त सरकार कोरोना वायरस को लेकर जल्द फैसला ले.. ये मुद्दा विधानसभा में छाया रहा..

वहीँ अब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कोरोनावायरस की वजह से 17 मार्च से 14 अप्रैल तक राज्य के सभी स्कूल-कॉलेज, यूनिवर्सिटी, कोचिंग सेंटर, मॉल, सिनेमाघरों को बंद रखने का आदेश दिया है. इसके अलावा स्वीमिंग पूल, म्यूजियम, जू, हॉस्टल भी बंद रखे जाएंगे. मुख्यमंत्री ने कोरोनावायरस के संदिग्ध बच्चों के लिए आइसोलेशन से अलग वार्ड बनाने का भी निर्देश दिया है .

हेमन्त सोरेन ने कहा कि कोरोनावायरस एक महामारी का रूप ले चुका है. विभिन्न देशों से होते हुए हमारे देश में और विभिन्न राज्यों में फैल रहा है. चिंता जाहिर है और होना भी चाहिए सबको. इस पर सर्तक रहना जरूरी है. काफी सजगता के साथ सरकार इसपर काम कर रही है. सरकार आपके द्वार का कार्यक्रम चला रही है. पर काेरोनावायरस की वजह से इसे अभी रोक दिया गया है. इसके बाद हमारी सेंट्रल कंमेटी की बैठक को भी स्थगीत किया. कई गोष्ठियों को भी रोकने का अनुरोध किया. स्वास्थ्य मंत्री ने भी पत्र लिखा, कई अधिकारियों से भी बात हुई. हर जगह केवल कोरोना की ही बात हो रही है. विपक्ष का आरोप निराधार है कि सरकार का इसपर ध्यान नहीं है.

वही हेमंत सोरेन ने ये भी कहा कि सभी डीसी को ये शक्ति दी जा रही है कि वो किसी भी कोरोना के संदिग्ध व्यक्ति की जांच करवा सकते हैं. अगर मरीज मना करे तो उसपर कानून कार्रवाई की जाए। उपकरणों, मेडिकल सुविधाओं के लिए 200 करोड़ रुपए का आवंटन भी किया जाएगा.