CORONAVIRUS : भारत में कुल 872 लोगों की गयी जान, 27 हजार के पार हुई संक्रमितों की संख्या

कोरोना वायरस के मामले देश में बढ़ते जा रहे हैं. हालाँकि पिछले कुछ दिनों से मामलों की बढ़ोत्तरी में कमी जरूर आई है लेकिन संक्रमित लोगों का आकड़ा बढ़कर 27,892 पर पहुंच गई. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) के मुताबिक 20,835 लोग अब भी संक्रमण की चपेट में हैं जबकि 6,184 लोग ठीक हो चुके हैं और एक व्यक्ति विदेश चला गया है. कुल मामलों में 111 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं. साथ ही कुल 872 लोगों की इस वायरस के चलते जान चली गयी है.

आइये जानते हैं कि भारत के प्रदेशों का हाल!

मौत के कुल 872 मामलों में से सबसे अधिक 342 मौतें महाराष्ट्र में हुई हैं. इसके बाद गुजरात में 151, मध्य प्रदेश में 103, दिल्ली में 54, राजस्थान में 33 और आंध्र प्रदेश में 31 मौतें हुई हैं.. उत्तर प्रदेश में मृतक संख्या 29, तेलंगाना में 26, तमिलनाडु में 24, पश्चिम बंगाल में 20 जबकि कर्नाटक में 19 है. पंजाब में अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है. बीमारी से जम्मू-कश्मीर में छह, केरल में चार जबकि झारखंड और हरियाणा में तीन लोगों की मौत हुई है

मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक बिहार में दो लोगों की जबकि मेघालय, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा और असम में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है. सुबह मंत्रालय के अद्यतन डेटा के मुताबिक देश में संक्रमण के सबसे अधिक 8,068 मामले महाराष्ट्र में हैं. इसके बाद गुजरात में 3,301, दिल्ली में 2,918, राजस्थान में 2,185, मध्य प्रदेश में 2,096 और तमिलनाडु में 1,885 मामले हैं. उत्तर प्रदेश में संक्रमितों की संख्या 1,868, आंध्र प्रदेश में 1,097 और तेलंगाना में 1,002 हो गई है.

पश्चिम बंगाल में मामले बढ़कर 649 जबकि जम्मू-कश्मीर में 523, कर्नाटक में 503, केरल में 458, पंजाब में 313 और हरियाणा में 289 हो गए हैं.बिहार में कोरोना वायरस के 274 मामले जबकि ओडिशा में 103 मामले सामने आए हैं. झारखंड में वायरस से 82 लोग और उत्तराखंड में 50 लोग संक्रमित हैं. हिमाचल प्रदेश में 40, छत्तीसगढ़ में 37 और असम में अब तक 36 मामले हैं.अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह से कोविड-19 के 33 जबकि चंडीगढ़ से 30 और लद्दाख से 20 लोग संक्रमित हैं.

मेघालय से 12 मामले और गोवा तथा पुडुचेरी से कोविड-19 के सात-सात मामले सामने आए हैं. मणिपुर और त्रिपुरा में दो-दो मामले जबकि मिजोरम और अरुणाचल प्रदेश में एक-एक मामला सामने आया है.

मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर कहा, “हमारे आंकड़ों का आईसीएमआर के आंकड़ों के साथ मेल किया जा रहा है.” साथ ही कहा कि राज्यवार आंकड़ों की और पुष्टि की जा रही है.