PM CARE FUND के नाम पर हुई बड़ी ठगी, दो गिरफ्तार, सरगना अभी फरार

कोरोना वायरस के चलते जहां पूरा देश लॉकडाउन हैं, वहीँ सरकार के जरिये लोगों तक पानी पहुचाने के लिए PM CARE FUND में लोग जमकर अनुदान दे रहे हैं. हालाँकि कुछ लोग इसके जरिये भी ठगी करने के चक्कर में लगे हैं. इसी मामले को लेकर झारखंड के हजारीबाग से दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

कुछ लोगों ने पीएम केयर रिलीफ फंड डॉट कॉम नाम का एक फर्जी वेबसाइट बनाया। उसमें अपील की कि कोरोना संक्रमण से बचाव और लॉकडाउन से पीड़ित लोगों की मदद के लिए निम्न अकाउंट में दान दें। वेबसाइट में जिन अकाउंट का उल्लेख किया गया, उसमें खाताधारक का भी नाम पीएम केयर लिखा गया था, जबकि पंजाब नेशनल बैंक बड़ी बाजार शाखा के मैनेजर सुजीत कुमार सिंह और यूनियन बैंक शाखा अन्नदा चौक के मैनेजर अमित कुमार ने उक्त खाता को सर्च किया, तो दोनों खाता के खाताधारक सगे भाई निकले।

दोनों बैंक से इस फर्जी वेबसाइट और अकाउंट के माध्यम से कुल 52.58 लाख रुपए की डिजिटल ठगी का उल्लेख है। आरोपी खाताधारक लाखे निवासी सिराजुद्दीन का पुत्र नूर हसन और मोहम्मद इफ्तेखार हैं, जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर गुरुवार को जेपी कारा भेज दिया। इनसे पूछताछ में मुख्य सरगना के रूप में मुफस्सिल थाना क्षेत्र के ओरिया निवासी परमेश्वर साव का नाम सामने आया है, जो फरार है

वहीँ आरोपी युवकों के पिता मो सराजुद्दीन ने कहा है कि दोनो पुत्रों को फंसा दिया गया है। वे दोनो मजदूरी करते हैं। उसके दोस्त ने 2000 रुपए का लालच देकर खाता खुलवाया था। उनके दोनों लड़कों ने तीसरी चौथी तक ही पढ़ाई की है। पुलिस आठ तारीख की रात में उन्हें उठा कर ले गयी थी।