Cyclone Jawad Update : समुद्र में उठेगा तूफान, भारी बारिश, स्कूल बंद-ट्रेनें रद्द,अलर्ट जारी

देश अभी ओमिक्रोन के खौफ से सहमा ही हुआ है कि बंगाल की खाली में उठा लो प्रेशर अब डीप डिप्रेशन में तब्दील हो चुका है और अगले 12 घंटों में और तेजी के साथ रफ्तार पकड़ते हुए तूफान में बदल जाएगा. तूफान का नाम जवाद रखा गया है. जैसे-जैसे यह उत्तर की ओर बढ़ रहा है यह रफ्तार पकड़ता जा रहा है. शुक्रवार दोपहर को  ही ये चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ में तब्दील हो गया और इसके रविवार दोपहर को ओडिशा के पुरी तट से टकराने के आसार हैं. एनडीआरएफ ने बचाव व राहत कार्य के लिए 64 टीमों को इस चक्रवात से निपटने के लिए तैयार रखा है. इस चक्रवात को जवाद नाम सऊदी अरब ने दिया है.

इसके कारण आंध्र प्रदेश के उत्तरी तट और ओडिशा के दक्षिणी तट पर शुक्रवार शाम से भारी बारिश हो रही है. इस चक्रवाती तूफान से आंध्र प्रदेश और ओडिशा के साथ-साथ पश्चिम बंगाल के भी प्रभावित होने की संभावना है. इस दौरान हवा की रफ्तार 80 से 100 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है. NDRF ने  46 टीमों को अधिक खतरे वाले प्रदेशों में मोर्चे पर तैनात कर दिया गया है। इनमें 19 पश्चिम बंगाल, 17 ओडिशा और 19 टीमें आंध्र प्रदेश में हैं, वहीं सात तमिलनाडु और दो टीमों को अंडमान निकोबार में तैनात की गई हैं. इसके अलावा 18 टीमों को स्टैंडबाय पर रखा गया है.

मौसम विभाग ने आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विजियानगरम और विशाखापत्तनम के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा ओडिशा के गजापट्टी, गंजम, पुरी और जगतसिंहपुर जिलों के लिए भी रेड अलर्ट जारी किया है। चक्रवात के कारण पश्चिम बंगाल में शनिवार-रविवार और असम मेघालय व त्रिपुरा में रविवार-सोमवार को कुछ इलाकों में भारी बारिश का पूर्वानुमान है। मौसम विभाग ने मध्य एवं उत्तरी बंगाल की खाड़ी में रविवार तक मछुआरों को न जाने की सलाह दी है।

चक्रवाती तूफान जवाद को लेकर रेलवे भी एहतियात बरत रहा है। इन रूटों से होकर गुजरने वाली 95 ट्रेनों को 3 और 4 दिसंबर को रद्द किया गया है. चक्रवात तूफान ‘जवाद’ को लेकर आंध्र प्रदेश में स्कूलों को बंद कर दिया गया है.

वही बात अगर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की करें तो दिल्ली में बीते दिनों बारिश के बाद शुक्रवार को राहत रही. दिनभर मौसम साफ रहा बीच-बीच में सूरज देवता के भी दर्शन हुए. आज शनिवार को भी मौसम साफ बना हुआ है और कड़ी धूप के दर्शन हो रहे है. हालांकि मौसम का पूर्वानुमान है कि रविवार से मौसम फिर करवट लेगा और दो दिनों तक बारिश का दौर जारी रहेगा. अगर बात पहाड़ी राज्यों के मौसम की करें तो जम्मू-कश्मीर में आज से मौसम खराब हो सकता है. मौसम विज्ञान केंद्र श्रीनगर ने तीन दिन तक बारिश और बर्फबारी की चेतावनी दी है. पांच दिसंबर को प्रदेश के कुछ हिस्सों में भारी बारिश की भी संभावना है.