आखिरकार शुरू हो ही गयी दिल्ली के प्रदुषण पर राजनीति, दिल्ली सरकार और एमसीडी गिना रहे हैं अपने-अपने काम

शनिवार को  दिल्ली की वायु गुणवत्ता में आए मामूली सुधार के बाद ‘बहुत खराब’ से ‘खराब’ स्तर पर पहुंच गई है।

दिल्ली में इंडिया गेट और अक्षरधाम मंदिर के आसपास शनिवार को सुबह एक बार फिर से आसमान में धुंध की चादर छाई देखी गई है, जिसने राजधानी में हवा की गुणवत्ता खराब कर दिया है।
दिल्ली का प्रदुषण एक तरफ उनकी सेहत खराब कर रहा है तो दूसरी तरफ अब इस पर राजनीति भी शुरू हो गयी है. हालाँकि ये कहना सबका होता है कि प्रदुषण पर राजनीति नही होनी चाहिए लेकिन पीछे भी कोई नही हटता. शुक्रवार को दिल्ली में वायु प्रदुषण के बीच किराड़ी में एक जगह कचरा जलाए जाने का वीडियो सामने आया.. आनन फानन में पर्यावरण मंत्री गोपाल राय उस जगह पर पहुंचे और फिर दिल्ली mcd पर एक करोड़ का जुर्माना लगा दिया.. वहीँ आम आदमी पार्टी के नेता सौरभ भारद्वाज ने बाकायदा इस मुद्दे पर प्रेस कांफ्रेंस कर डाली और फिर केंद्र सरकार, दिल्ली बीजेपी और एमसीडी को जमकर फटकार लगाईं….

वहीँ दिल्ली में कूड़ा जलाए जाने के मामले को बड़ी ही गंभीरता से लेते हुए पर्यावरण मंत्री ने एमसीडी में एक करोड़ का जुर्माना लगा दिया.. इसके बाद बीजेपी ने दक्षिणी नगर निगम के द्वारा किये गये कार्यों को सबके सामने रखा..

बीजेपी ने बताया कि एमसीडी द्वारा प्लास्टिक वेस्ट को रिसायकिल करने के लिए 107 FCTS पॉइंट बनाये हैं. 25 मेट्रिक टन प्लास्टिक और 455 मेट्रिक तन प्लास्टिक वेस्ट को रिसायकिल किया गया.

बीजेपी की तरफ से कहा गया है कि 12 कालोनियों का 100 फीसद कचरे का खाद बनाया जा रहा है बताया गया है कि कचरे को जलाने पर प्रतिबंध लगाया गया है और कचरा जलाने से रोकने के लिए रात में भी पेट्रोलिंग टीम लगाईं गयी है. इसी के साथ 13 हजार 275 लोगों का चालान किया गया जो नियमों का उल्लंघन कर रहे थे..

हालाँकि अब सवाल ये उठता है कि इतने इंतजाम के बाद आखिरकार किराड़ी में कचरा जला कौन रहा था जिसे संज्ञान में लेते हुए आप की सरकार ने एमसीडी पर एक करोड़ का जुर्माना ठोका है..

जलाने वाले कोई भी हो, उनको रोकने के लिए लाख इंतजाम किये गये हो लेकिन दिल्ली में प्रदुषण अभी भी खतरनाक स्तर पर बना हुआ है. दिल्ली सरकार ने प्रदुषण को रोकने के लिए तमाम काम गिनाये, एमसीडी ने भी अपने काम गिना दिए हैं लेकिन जब प्रदुषण रोकने में सब नाकाम हो गये तो अब इस मुद्दे पर एक दुसरे पर आरोप लगाकर, एक दुसरे को दोषी बताकर अब राजनीति शुरू हो चुकी है..