बैन के बावजूद भी अगर जलाये पटाखे तो आप पर क्या होगी कार्रवाई? पढ़िए ये रिपोर्ट

दिल्ली समेत देश के राज्यों और शहरों में पटाखों को फोड़ने पर रोक लगी हुई है. एनजीटी ने भी अपने आदश में कहा है कि जिन शहरों की हवा बेहद खराब श्रेणी में हैं वहां पर पटाखों को फोंदे की अनुमति नही दी जाएगी ऐसे में सवाल ये उठता है कि अगर आप ने सरकार और एनजीटी दोनों के आदेश को ना मानते हुए पटाखा फोड़ दिया तो क्या होगा?

अगर आपने कानून तोड़कर पटाखा फोड़ा तो सरकार आप पर कार्रवाई कर सकती है.. ख़ासकर दिल्ली सरकार ने बेहद कड़े तेवर अपनाए हुए हैं.. दिल्ली में एक पटाखा (Firecracker) भी फोड़ा तो 6 साल तक की जेल हो सकती है. इतना ही नहीं पटाखों से प्रदूषण फैलाने वालों के खिलाफ दिल्ली सरकार एयर एक्ट के तहत कार्रवाई करेगी. एयर एक्ट (Air Act) के तहत ही एफआईआर (FIR) दर्ज होगी. आपको भारी जुर्माना भी देना पड़ेगा. मजिस्ट्रेट के पास ये अधिकार होगा कि वो आर्थिक दण्ड देने के साथ-साथ दोषी को कम से कम डेढ़ साल और अधिक से अधिक 6 साल तक की सजा दे सकता है.

दरअसल कुछ दिन पहले ही दिल्ली सरकार ने दिल्ली में पटाखे बैन किए हैं. पटाखों पर यह बैन 7 नवंबर से लेकर 30 नवंबर तक रहेगा. वहीं, सोमवार को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने भी दिल्ली में 30 नवंबर तक के लिए पटाखे चलाने पर बैन लगा दिया है. इस दौरान पटाखे खरीदना और बेचना पूरी तरह से बैन रहेगा. वहीं एनजीटी ने तो यह भी कहा है कि दिल्ली-एनसीआर ही नहीं देशभर के किसी भी शहर में पटाखे सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइंस के अनुसार ही चलाए जा सकेंगे.

दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय का कहना है, ‘दिल्ली के लोगों से मेरा निवेदन है कि बात सिर्फ जुर्माने की नहीं है, बल्कि यह दिल्ली के लोगों की जिंदगी की है. एनजीटी के आदेश के अनुसार, दिल्ली उस जोन में है, जहां पर प्रदूषण काफी ज्यादा बढ़ा हुआ है. यहां कोरोना के केस भी काफी ज्यादा बढ़े हुए हैं. इसलिए सरकार ने पहले ग्रीन पटाखों की अनुमति दी थी, लेकिन कोरोना के केस लगातार बढ़ने की वजह से लोगों की जिदंगी के ऊपर जो खतरा मंढ़रा रहा है, उसको लेकर यह निर्णय लिया गया कि दिल्ली के अंदर ग्रीन पटाखों को जलाने पर भी प्रतिबंध लगाया जाए.’