पौधे की आपूर्ति को लेकर गांव में दीदी नर्सरी बनाये: मनरेगा आयुक्त

रांची: राज्य के मनरेगा आयुक्त वरुण रंजन की अध्यक्षता में आज मनरेगा योजना से संबंधित समीक्षा बैठक वर्चुअल माध्यम से आयोजन किया गया। मनरेगा द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं के तहत काम शुरू कर श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराएं।  राज्य के और प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देना सरकार की पहली प्राथमिकता है। इसके मद्देनजर मनरेगा आयुक्त वरुण रंजन  ने आज वर्चुअल माध्यम से सभी परियोजना पदाधिकारियों एवं जिला कार्यक्रम प्रबंधक को विस्तृत दिशा निर्देश दिया।

रोजगार सृजन पर रखें फोकस
मनरेगा आयुक्त  वरुण रंजन ने कहा कि मनरेगा के तहत गांव में अधिक से अधिक योजनाएं संचालित कर रोजगार का सृजन करें ताकि गांव में ही श्रमिकों को रोजगार मुहैया हो सके। उन्होंने स्पष्ट कहा कि योजनाएं संचालित करने में जो भी अधिकारी या कर्मी लापरवाही बरतेंगे ऐसे अधिकारियों एवं कर्मियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मनरेगा आयुक्त श्री वरुण रंजन ने मनरेगा के तहत संचालित बिरसा हरित ग्राम योजना की समीक्षा की। उन्होंने लक्ष्य के अनरूप कार्य नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने ससमय योजनाओं  को पूर्ण करने को लेकर सभी परियोजना पदाधिकारी को निर्देशित किया। कुछ जिलों की स्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए आगामी 24 मई तक कार्यों को पूरा कर लक्ष्य प्राप्ति करने का निर्देश दिया।

लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाना लक्ष्य
उन्होंने कहा कि सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से जीवन स्तर में सुधार लाने का प्रयास करना हमारा मुख्य उद्देश्य है। मनरेगा आयुक्त वरुण रंजन ने कहा कि जिला व प्रखण्ड स्तर पर सभी अधिकारियों को निरन्तर विकास के कार्यों के लिए प्रयासरत रहने की आवश्यकता है। ताकि इन योजनाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाया जा सके।

मनरेगा योजना की प्रगति की समीक्षात्मक बैठक में सीईओ जेएसएलपीएस आदित्य रंजन, राज्य के सभी जिलों के परियोजना पदाधिकारी एवं जिला कार्यक्रम प्रबंधक, राज्य मनरेगा कोषांग के एमआईएस नोडल ऑफिसर पंकज राणा, स्टेट प्रोजेक्ट ऑफिसर शिव शंकर सहित अन्य शामिल थे।