दिल्ली एनसीआर में आ चुके कई भूकंप के झटके? जानिये कैसे करें भूकंप का सामना

दिल्ली और उससे सटे हुए इलाकों में पिछले एक महीने में कम से कम 10 छोटे बड़े भूकंप के झटके सामने आ चुके हैं. इस पर कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि ये किसी बड़े भूकंप की आहट हो सकती है. इसके लिए सरकार को तैयारी करनी चाहिए. आईआईआईटी धनबाद (IIT) के अप्लाड जियोग्राफी सिस्मोलॉजी डिपोर्मेंट के एक्सपर्टस का कहना है कि ये किसी बड़े भूकंप के आसार हैं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि कम मैग्नीट्यूट के भूंकप किसी बड़े भूंकप के आने की ओर इशारा कर रहे हैं. एक्सपर्टस ने कहा कि भूकंप कहां आएगा इसकी तो वह भविष्यवाणी नहीं कर सकते, लेकिन दिल्ली (NCR) के आसपास लगातार भूकंपीय गतिविधि चल रही है, जो भविष्य में चिंता का विषय बना हुई हैं.

आज हम आपको इस आर्टिकल के जरिये बतायेंगे कि जब भूकंप आये तो आपकों किन महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना है और कैसे आप खुद को भूकंप की चपेट में आने से संभवत बचा सकते हैं.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट में इसके बारे में जानकारी दी गयी है.  भूकंप आने से पहले हमें क्या तैयारी करनी चाहिए.. सबसे पहले आपको अपने घर के कमजोर पुर्जों को ठीक कर लेना चाहिए, वो चीजे जो जमीन के हिलने गिर सकती हैं उन्हें व्यवस्थित जगह पर रख लेना चाहिए, दरवाजों और खिडकियों को बंद रखना चाहिए इस दौरान गैस का कनेक्शन बंद करना बिलकुल ना भूलें

गृह मंत्रालय का राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्रभाग (एनडीएमडी) इन तीन कार्यों को करने के लिए कहता है. ड्रॉप, कवर और होल्ड, जिन्हें जीवन का त्रिकोण भी कहा जाता है.

ड्रॉप: खुद को बचाने के लिए किसी टेबल या अन्य चीज के नीचे छिपें उसके बाद वहां से घुटनों और हाथों का प्रयोग कर निकलें. ऐसा करना आपके बचने की आदर्श स्थिति है.

कवर: अपने आप को मलबे से बचाने के लिए अपने सिर और गर्दन पर हाथ रखें. किसी भी पास की मेज या अन्य आश्रय के नीचे रहें, जब तक कि झटकों रुक न जाएं. इस दौरान दीवारों, उंची वस्तुओं और फर्नीचर से दूर हट जाएं… कुछ लोगों को भूकंप के वक्त घर के दरवाजे सबसे सुरक्षित स्थान लगते हैं लेकिन अगर आपका घर पुराना हो तो ये बिलकुल सही नही है..

छिपाव: जब तक झटके रुक न जाएं कवर के नीचे रहें. यदि आप एक मेज के नीचे हैं, तो इसे एक हाथ से पकड़े रहें. यदि आप खुले में हैं, तो अपने सिर और गर्दन को अपनी बाहों से बाहों से ढंक लें.

यदि आप व्हीलचेयर पर हैं, तो कमरे बंद कर ले. अपने सिर और कमर के बचाव की मुद्रा में झुक जाएं.

यदि आप भूकंप के दौरान घर से बाहर हैं तो आप ऊँची इमारतों, बिजली के तारों, पेड़ पौधे से दूर रहे… किसी खाली जगह पर चले जाएँ.. जो लोग ऊँची इमारतों में रहते हैं उन्हें सबसे अधिक डर होता है कि वे भूकंप के दौरान बाहर कैसे निकले… इमारत को छोड़ने की कोशिश ना करें..वैसे अधिकतर भूकंप अधिक वक्त के लिए आते हैं.. आप कोशिश कीजिये कि जब भूकंप रुक जाए तो आप बाहर निकलिए.

भूकंप के दौरान इन बातों को विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए.

जब भी भूकंप आये तो आप दुसरे कमरे में भागने की कोशिश ना करे. इस दौरान किसी वस्तु या सामान से टकराकर चोटिल हो सकते हैं.

जैसा कि हमने आपको पहले बताया कि किउच लोग दरवाजे के पास छिपना सबसे सुरक्षित जगह मानते हैं लेकिन आज कल के घरों के दरवाजों में उतनी मजबूती नही होती तो बेहतर होगा कि आप दरवाजे के पास छिपने की कोशिश ना करें. भूकंप की स्थिति बेहद भयावह हो जाती है तो ऐसे में हमें इसके लिए खुद को तैयार रखना चाहिए.. कुछ तैयारिया, सावधानियां और सतर्कता आपकी जान बचा सकती है.. होने वाले नुकसान को कम कर सकती है.