तौकते के बाद एक और चक्रवाती तूफ़ान की आशंका, मौसम विभाग की भविष्यवाणी

अभी चक्रवाती तूफ़ान तौकते पूरी तरह से खत्म भी नही हुआ है कि अब एक और चक्रवाती तूफ़ान की आशंका जताई गयी है.IMD ने कहा कि चक्रवात ताउते के बाद, 23 मई के आसपास बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना देखी जा रही है, जिसके चलते एक और चक्रवात आ सकता है, जो तेज होकर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है. एक्सपर्ट्स का मानना है कि ये सब कुछ जलवायु परिवर्तन और समुद्र के बढ़ते तापमान की वजह से हो रहा है.

IMD प्रभारी सुनीता देवी ने कहा, “अगले हफ्ते के आसपास पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी में लो प्रेशर एरिया बन सकता है. हम इस पर नजर बनाए रखे हैं. जैसे ही यह हमारे पूर्वानुमान में आता है, हम इसके बारे में और जानकारी उपलब्ध कराएंगे.” दरअसल, अरब सागर और बंगाल की खाड़ी, दोनों पर समुद्र की सतह का तापमान सामान्य से 1-2 डिग्री सेल्सियस ज्यादा है, जिससे चक्रवात के तैयार होने के लिए अनुकूल हालात बन रहे हैं. सुनीता ने कहा, “बंगाल की खाड़ी के ऊपर समुद्र की सतह का तापमान लगभग 31 डिग्री सेल्सियस है और अन्य सभी मौसमी परिस्थितियां भी चक्रवात के बनने के लिए अनुकूल हैं.”

जलवायु परिवर्तन की वजह से समुद्र का तापमान (Sea Temperature) बढ़ रहा है, जिसका असर समुद्र में बनने वाले चक्रवातों पर भी पड़ रहा है. दरअसल, चक्रवातों के बनने की शुरुआत समुद्र के गर्म क्षेत्र में ही होती है, जहां चलने वाली हवा गर्म होकर कम वायुदाब का क्षेत्र बनाती है. गर्म हवा तेजी से ऊपर उठती है, जहां उसे नमी मिलती है और बाद में घने बादल का निर्माण करती है. इस वजह से खाली हुई जगह को भरने के लिए नम हवा तेजी से नीचे जाकर फिर ऊपर की तरफ उठती है. ऐसे में जब हवा तेजी के साथ इसके ऊपर चक्‍कर काटती है, तो घने बादल बिजली कड़कने के साथ बारिश करते हैं. इसका बड़ा रूप ही चक्रवात बनता है.