नहीं जला सकेंगे दिवाली पर पटाके, न्यू ईयर तक पटाको की खरीद बिक्री पर रोक

हर साल सर्दियों में दिल्ली में मौसम की समस्या बढ़ जाता है। इसी को देखते हुए दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण को देखते हुए बड़ा फैसला लिया है। दिल्ली सरकार ने पिछले साल की तरह ही इस बार भी सभी तरह के पटाखों के उत्पादन, भंडारण, बिक्री और उपयोग पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया है। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में एक जनवरी तक सभी तरह के पटाखों के उत्पादन, बिक्री और इस्तेमाल पर रोक रहेगी। बल्कि इतना ही नहीं आप ऑनलाइन भी पटाखों की शॉपिंग नही कर पाएंगे। इतना नहीं प्रदूषण की समस्या को देखते हुए दिल्ली सरकार ने 15 पॉइंट्स ‘विंटर एक्शन प्लान’ भी तैयार किया है।

विंटर एक्शन प्लान के १५ मुख्य बिंदु

इस साल के 15 फोकस बिंदु पर एक सामूहिक कार्य योजना बनाई जाने के लिए 5 सितम्बर को बैठक की गई. इस मीटिंग में लगभग 30 विभागों को विस्तृत प्लान तैयार करने का जिम्मा सौंपा गया।  इस साल के मुख्य १५ बिंदु इस प्रकार है :

अर्बन फार्मिग

हरित क्षेत्र को बढ़ाना / वृक्षारोपण

फायर क्रेकरर्स

इको क्लब एक्टीविटी / जन भागीदारी को बढ़ावा

केन्द्र सरकार एवं पड़ोसी राज्यों के साथ संवाद

हॉट स्पॉट

ई-वेस्ट पार्क

रियल टाईम अपोर्समेंट स्टडी (आई.आई.टी. कानपुर द्वारा)

स्मॉग टावर

औद्योगिक प्रदूषण

ग्रीन वार रूम एवं ग्रीन ऐप

वाहनों से होने वाले प्रदूषण

ओपन कूड़ा बर्निंग

पराली की समस्या

 डस्ट प्रदूषण

एक जनवरी 2023 तक प्रतिबन्ध

दिल्ली में लोगों को प्रदूषण के खतरे से बचाने के लिए पिछले साल की तरह ही इस बार भी सभी तरह के पटाखों के उत्पादन, भंडारण, बिक्री और उपयोग पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाया जा रहा है, तांकि लोगों की जिंदगी बचाई जा सके। इस बार दिल्ली में पटाखों की आॅनलाइन बिक्री एवं डिलीवरी पर भी प्रतिबंध रहेगा। यह प्रतिबंध एक जनवरी 2023 तक लागू रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रतिबंध को कड़ाई से लागू करने को लेकर दिल्ली पुलिस, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति(पीडीसीसी) और राजस्व विभाग के साथ मिलकर एक कार्य योजना बनाई जाएगी।