लंबी बिमारी के बाद छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का शुक्रवार को निधन हो गया.आज दोपहर अजीत जोगी का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया.बता दें कि 9 मई को अजीत जोगी को दिल का दौरा पड़ने के बाद रायपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था.20 दिनों के बाद आज इलाज के दौरान उन्होंने अंतिम सांस ली. उनके मौत की खबर उनके बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर दी है.

अमित जोगी ने लिखा कि 20 वर्षीय युवा छत्तीसगढ़ राज्य के सिर से आज उसके पिता का साया उठ गया. केवल मैंने ही नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ ने नेता नहीं,अपना पिता खोया है. अजीत जोगी ढाई करोड़ लोगों के अपने परिवार को छोड़कर, ईश्वर के पास चले गए. गांव-गरीब का सहारा, छत्तीसगढ़ का दुलारा,हमसे बहुत दूर चला गया.

अजीत जोगी के निधन पर नेता, राजनेता और लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे है.

बता दें कि अजीत जोगी का निधन 74 साल की उम्र में हो गया है.छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री के तौर पर अजित जोगी ने कार्यभार संभाला था.

आईपीएस और फिर आईएएस से लेकर मुख्यमंत्री पद तक का सफ़र तय करने वाले अजीत जोगी राजनीति के धुरंधरों में गिने जाते रहे हैं. नंगे पैर स्कूल जाने से लेकर इंजीनियरिंग की पढ़ाई और ईसाई धर्म अपनाने से लेकर प्रशासनिक सेवा तक के सफ़र ने जोगी को परिपक्व बना दिया था. जोगी को ‘सपनों का सौदागर’ भी कहा जाता रहा है. नौकरशाह से राजनेता बने जोगी छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री थे. वह नवंबर 2000 से नवंबर 2003 तक तत्कालीन कांग्रेस सरकार के राज्य में मुख्यमंत्री रहे. हालांकि, साल 2016 में जोगी ने कांग्रेस से रास्ते अलग कर लिए थे और अपनी अलग पार्टी बना ली. जिसका नाम जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ पार्टी है.