गौतम गंभीर का दावा, मात्र 1 साल में 40 फीट कम हुआ एशिया का सबसे बड़ा कूड़े का पहाड़

देश की राजधानी दिल्ली के सबसे बड़े लैंडफिल साइट गाजीपुर में कचरे का पहाड़ है, जिसे एशिया के सबसे बड़े कूड़े का पहाड़ भी माना जाता है. इसकी ऊचांई 2017 में 65 मीटर यानी करीब 213 फीट तक पहुंच गई थी. साल 2017 में सितंबर के महीने में कुतुब मीनार की ऊंचाई वाले कूड़े के पहाड़ में हुए विस्फोट के बाद मलबा गिरने से एक शख्स की मौत भी हो गई थी. लेकिन आसपास के लोगों के लिए मुसीबत बने इस कचरे के पहाड़ से एक राहत भरी खबर आई है. इलाके के सांसद गौतम गंभीर ने दावा किया है कि अब इस कूड़े के पहाड़ की ऊंचाई 40 फीट कम हो गई है.

पूर्वी दिल्ली नगर निगम का दावा है कि पिछले एक साल में ये कचरे का पहाड़ 40 फीट कम हुआ है. इसकी जानकारी देते हुए बीजेपी सांसद गौतम गंभीर से ट्वीट करते हुए लिखा है कि, ‘हिम्मत और मेहनत बड़े से बड़े पहाड़ को हिला सकती है. मैंने वादा किया था कि अगर मैंने करके नहीं दिखाया तो फिर से दोबारा चुनाव नहीं लड़ूंगा. पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर में एशिया का सबसे बड़ा कचरे का पहाड़ 1 साल में 40 फीट कम हुआ है.’

वहीं आम आदमी पार्टी के विधायक कुलदीप कुमार ने गौतम गंभीर के इस दावे को झूठा बताते हुए कहा है कि केवल जेसीबी लगाकर कूड़े को शिफ्ट किया जा रहा है.

यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, एक बार तो गाजीपुर के कचरे के पहाड़ की ऊंचाई ताज महल से भी ज्यादा हो गई थी. जिसके बाद आसपास के लोगों के लिए ये भारी मुसीबत बन गया था.