अभिभावक अपने हितों के लिए हुए गोलबंद

झारखण्ड: आल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन झारखण्ड के राज्य अध्यक्ष सुभाष कुमार सिंह द्वारा आल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन झारखण्ड के बोर्ड ऑफ़ मेंबर का सदस्य का गठन किया गया जिसमे झारखण्ड राज्य के उपाध्यक्ष का पद नीतू सिंह को सौपा गया , झारखण्ड राज्य के महासचिव के पद के लिए रमेश बर्मन और बिस्वजीत पॉल को दिया गया , झारखण्ड राज्य के सचिव का पद नवीन कुमार को सौपा गया , झारखंड राज्य के राज्य प्रवक्ता का पद लाडले खान को सौपा गया , विक्रम सिन्हा और जीतेन्द्र कुमार को राज्य कानूनी राज्य सलाहकार उमेश प्रसाद को राज्य के वित्तीय राज्य सलाहकार और आरती कुमारी को राज्य सलाहकार बनाया गया । राँची जिला अध्यक्ष का पद शहनवाज खान और राँची जिला उपाध्यक्ष का पद शाहिद कमल हसन को सौपा गया साथ ही बोकारो जिला अध्यक्ष का पद आशीष कुमार और पलामू जिला अध्यक्ष पद साजिद अहमद को दिया गया । तत्पश्चात आल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन झारखण्ड के बोर्ड ऑफ़ मेंबर ने राज्य के बच्चे और पेरेंट्स के सुविधा को देखते हुए कई बिंदुओं पे चर्चा की गई ।

राज्य में करोना महामारी तेजी से बढ़ रही जिसके कारण सभी अभिभावक में अपने बच्चे के लिए एक डर का माहौल बना हुआ है इसीलिए 21 सितम्बर को विद्यालय को ना खोलने के लिए राज्य सरकार से मिलकर इस बात की परस्ताव रखेंगे ।

करोना महामारी के कारण अभिभावक को फीस देने मे काफी कठिनाइयों का सामना करना पढ़ रहा है अभिभावकों का कहना है कि विद्यालयों द्वारा फीस मे किसी भी तरह की कटौती नहीं की गई सामान्य दिनों की तरह फीस मांगी जा रही है जिसमे कई जगह तो लाइब्रेरी फीस , बस फीस , लैब फीस जैसे अन्य शुल्क भी माँगा जा रहा है इन परिस्थितियों मे ये सब मांग कर अभिभावकों को और भी कठिनाइयों का सामना करना पढ़ रहा है तथा और भी समस्याओ पे चर्चा हुई और राज्य सरकार से मिलकर इस बात की परस्ताव रखेंगे की अभिभावकों से अभी सिर्फ टूशन फीस लिया जाये उसके अतिरिक्त किसी भी तरह की अन्य फीस ना लिया जाये ।

झारखण्ड मे कई ऐसे पंचायत है जंहा बिजली की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है साथ ही इंटरनेट सुविधा भी उपलब्ध नहीं है जिस कारण कई बच्चो का पढाई पूरी नहीं हो पा रही है जिसमे सरकार को इस बात से औगत कराया जायेगा तथा उन्हें इन बच्चे के लिए कोई नई नीति बनाया जाये ताकि इन बच्चो को भी शहरी क्षेत्रों के बच्चे की तरह शिक्षा का लाभ उठा सके ।

अगर विद्यालय द्वारा किसी भी माध्यम से अभिभावकों को फीस के लिए जबरजस्ती मांगी जा रही है या फिर ऑनलाइन क्लास मैं शिक्षकनहीं पढ़ा रहे है या फिर शिक्षकऑनलाइन क्लास मे उपस्थित नहीं है तो उस स्थिति मे अभिभावक को या तो वीडियो रिकॉर्डिंग / कॉल रिकॉर्डिंग या फिर मैसेज का स्क्रीनशॉट हमारे ईमेल पे भेजे या फिर हमारे फेसबुक पेज से साझा करे ताकि एसोसिएशन द्वारा उन अभिभावकों की परेशानियों का निवारण हो सके ।

एसोसीएशन के अध्यक्ष ने कहा है के जब विद्यालय में प्रत्येक दिन सात क्लास चलती थी मगर अभी मात्र तीन क्लास चल रहा है, जबकि विद्यालय सभी सात क्लास का पैसा अभिभावकों से मांग रहा है ये गलत है इस मामले पर हमलोग शिक्षा मंत्री से जल्द मिलेंगे |