ओडिशा में चक्रवाती तूफ़ान यास से भारी तबाही, लगभग लगभग 60 लाख लोग हुए प्रभावित

चक्रवाती तूफ़ान यास आया और तबाही मचा कर चला गया लेकिन तबाही ऐसी है कि सुनकर यकीं करना मुश्किल हो जाए! ओडिशा सरकार ने बुधवार को अपने आकलन में पाया कि राज्य को हाल में आए चक्रवात ‘यास’ से लगभग 610 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है और इससे तटीय क्षेत्रों के 11,000 गांवों में लगभग 60 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. ये जानकारी मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक में सामने आई. तूफान से सरकारी संपत्ति को जहां 520 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है, वहीं निजी संपत्ति को 90 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.

मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक में शामिल हुए विशेष राहत आयुक्त पी के जेना ने बताया कि राहत अभियान के लिए 66 करोड़ रुपये की आवश्यकता है. इस संबंध में एक अधिकारी ने कहा कि नुकसान का आकलन केंद्र सरकार को सौंपा जाएगा. उन्होंने कहा कि जेना ने बैठक में बताया कि चक्रवात के दौरान समुद्र में उठीं ऊंची लहरों की वजह से 150 गांव जलमग्न हो गए थे.

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘‘यास’’ से प्रभावित ओडिशा, पश्चिम बंगाल और झारखंड के लिए 1000 करोड़ रुपए की वित्तीय सहायता की घोषणा कर चुके हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि केंद्रीय दल तीनों राज्यों का दौरा कर नुकसान का आकलन करेगा. साथ ही उन्होंने इस चक्रवात से देश के विभिन्न हिस्सों में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए दो-दो लाख रुपये और घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये के मुआवजे की घोषणा की थी.

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से जारी एक बयान में कहा गया था, ‘‘मोदी ने तत्काल राहत गतिविधियों के लिए 1000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता की घोषणा की. ओडिशा को तत्काल 500 करोड़ रुपये दिए जाएंगे. शेष 500 करोड़ रुपये की घोषणा पश्चिम बंगाल और झारखंड के लिए की गई है, जिसे नुकसान के आधार पर जारी किया जाएगा.’’

प्रधानमंत्री ने चक्रवात से जान माल के कम से कम नुकसान के लिए ओडिशा सरकार के प्रयासों की सराहना की थी और इस बात पर खुशी जताई थी कि वह ऐसी आपदाओं के नियंत्रण के लिए दीर्घकालिक योजना पर काम कर रही है.