आदिवासियों की लंबी मांग हुई पूरी, हेमंत सोरेन सरकार ने विधानसभा से पास किया सरना कोड

झारखंड आदिवासियों की लंबी समय  की जा रही मांग सरना कोड आखिरकार झारखण्ड विधानसभा से पास हो गया.. आदिवासी समाज के लोग सड़कों पर उतरे और पारंपरिक वेशभूषा में नृत्य करते हुए अपनी खुशी का इजहार किया। सबसे पहले केंद्रीय सरना स्थल में पारंपरिक आदिवासी पूजा की गई। इसके बाद पारंपरिक वेशभूषा और पारंपरिक गाजा बाज़ा के अलावा सरना झंडा के साथ लोग विजय जुलूस में शामिल हुए।

आपको बता दें कि विधानसभा में  मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि इस सरना आदिवासी धर्म कोड को जनगणना 2021 में शामिल कराने के लिए सत्ता पक्ष के सभी विधायक उनके साथ केंद्र सरकार और गृह मंत्री से मिलकर अनुरोध करेंगे। ताकि पूरे देश में यह संदेश जाए कि झारखंड की सरकार देश के आदिवासियों के लिए संवेदनशील है। सरकार के इस प्रस्ताव का भाजपा ने स्वागत करते हुए समर्थन किया.. विधानसभा में सर्वसम्मति से सरना आदिवासी धर्म कोड पारित किया गया